फरीदाबाद के सिविल अस्पताल से एक शर्मनाक घटना सामने आई हैं।

इंसान अपना इलाज करवाने के लिए अस्पताल में जाता है और उसे उम्मीद होती है कि उसके साथ कुछ गलत नही होगा। पर उसके साथ अगर कुछ ऐसा हो जाए जिसके बाद लोगों का उस पर यकीन करना मुश्किल हो जाएं तब क्या हो! ऐसी ही एक घटना फरीदाबाद के सिविल अस्पताल से आई हैं। जिसने इंसानियत को शर्मसार कर दिया है।

दरअसल, एक शख्स के दोनो पैर कट जाने के बाद उसे फरीदाबाद के सिविल अस्पताल मे लाया गया था। जहां अस्पताल के कर्मचारियों मरीज को उपचार के लिए स्ट्रेचर पर ले जा रहे थे पर उन्होने उस मरीज के कटे हुए दोनो पैरों को उसी के सिरहाने तकिया बना कर रख दिया। इस घटना की तस्वीर सामने आने के बाद से ही सब लोग इसकी आलोचना कर रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक प्रदीप नाम का एक शख्स घर से ड्यूटी के लिए निकला था और रेलवे ट्रेक को पार कर रहा था। उसी वक्त रेलगाड़ी की चपेट में आने से उसके दोनों पैर कट गए जिसके बाद मरीज को अस्पताल मे ले जाया गया। जहां अस्पताल प्रशासन की और से बड़ी लापरवाही देखने को मिली।

सिविल अस्पताल के कार्यवाहक अधीक्षक डॉक्टर विनय गुप्ता ने बताया की किसी भी डॉक्टर के लिए मरीज की जान बचाना पहला कर्तव्य है। और मरीज को उपचार देने की जरुरत थी इसके लिए जो उस वक्त संभव हुआ वो हमने किया।