खेल रत्न के लिए नामांकन खारिज होने से नाखुश हरभजन सिंह, खेल मंत्री से की जांच की मांग

0
695

खेल रत्न पुरस्कार के लिए हरभजन सिंह का नामांकन खारिज होने के बाद उन्होंने अपने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट कर इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया दी।

पूर्व भारतीय दिग्गज स्पीनर हरभजन सिंह को इस साल राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार नहीं मिलेगा। भारत के केंद्रीय खेल मंत्रालय ने दस्तावेज पहुंचने में हुई प्रशासनिक देरी के चलते उनका नामांकन खारिज कर दिया है। जिसके चलते हरभजन सिंह काफी आहत है और उन्होंने पंजाब सरकार के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी से इसकी जांच करने का आग्रह किया था।

इसी के चलते पंजाब सरकार के खेल मंत्रालय ने इसकी जांच के आदेश दे दिए है। पंजाब के खेल मंत्री सोढ़ी ने कहा, ‘ मैंने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए है और जांच की जिम्मेदारी खेल निदेशक को सौंपी गई है ।‘

रोहित से लड़ाई पर खुलकर बोल रहे थे विराट, शास्त्री ने माइक छीनकर रोहित को ही सुना दिया

आपको बता दें कि खेल रत्न पुरस्कार के लिए हरभजन सिंह का नामांकन खारिज होने के बाद उन्होंने अपने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट कर इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया दी। हरभजन ने इस वीडियो में कहा कि, ‘मुझे मीडिया के जरिए इस बात का पता चला कि खेल रत्न के लिए  भेजा गया मेरा नामांकन रद्द हो गया है। पंजाब सरकार ने मेरे नाम की सिफारिश के लिए जो फाइल केंद्र सरकार को भेजी दी उसे यह कारण बताकर खारिज कर दिया गया है कि कागजात काफी देरी से पहुंचे।’

साथ ही उन्होंने कहा कि, ‘ इससे संबंधित सारे दस्तावेज मैंने 20 मार्च को जमा करवा दिए है। जिसके कुछ दिन बाद ही यह दस्तावेज केंद्र सरकार को भेजे जाने थे। अगर समय रहते यह फार्म जमा करवा दिया गया होता तो मुझे इस साल यह पुरस्कार मिल जाता। जो किसी भी खिलाड़ी के लिए एक प्रेरणा होता। अगर ऐसा ही होता रहा तो खिलाड़ी पीछे रह जाएंगे जो सही नहीं है। इसलिए मैं खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी से इस मामले में कार्रवाई करने की मांग करता हूं।’

क्या 2022  में होने वाले कॉम्नवेल्थ गेम्स में शामिल नहीं होगा भारत ?