कश्मीर से लौटते ही कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कश्मीर को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने सरकार के दावे को खारिज करते हुए कहा कि

एक तरफ केंद्र सरकार जहां कश्मीर में शांति होने का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ कुछ विपक्षी पार्टी के नेता केंद्र के इस बयान को फर्जी बता रहे हैं। कई विपक्षी पार्टियों का कहना है कि जब कश्मीर में शांति पूरी तरह बनी हुई है तो वहां टेलीफोन और इंटरनेट सुविधा क्यों बंद कर रखी है। क्यों कुछ अलगाववादी नेताओं को नजरबंद करके रखा हुआ है। कई विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने तो यहां तक कहा है कि वहां अभिव्यक्ति की आजादी को भी दबाया जा रहा है।

आज किस लिए चेन्नई पहुंच रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जानिए असली वजह….

J&K के दौरे से लौटते ही गुलाम नबी आज़ाद ने दिया बड़ा बयान, कहा वहां तो...जानकारी के लिए बता दें कि कुछ दिनों पहले ही जम्मू-कश्मीर से अचानक अनुच्छेद 370 को हटा दिया गया। सरकार के इस ऐतिहासिक फैसले के बाद वहां पर काफी बवाल हुआ। अलगाववादी नेताओं और कुछ विपक्षी पार्टी के नेताओं ने इसका जमकर विरोध किया। जिसके बाद सरकार ने अलगाववादी नेताओं को नजरबंद कर लिया। पिछले काफी समय से कई विपक्षी पार्टी के नेता कश्मीर जाने की अनुमति मांग रहे हैं। हाल ही में गुलाम नबी आजाद कश्मीर होकर आए हैं।

कश्मीर से लौटते ही कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कश्मीर को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने सरकार के दावे को खारिज करते हुए कहा है कि पूरी घाटी में डर का माहौल है। साथ ही उन्होंने कहा कि कश्मीर घाटी में हर तरह की पाबंदी है और लगभग सब जगह सब कुछ ठप पड़ा है।

J&K के दौरे से लौटते ही गुलाम नबी आज़ाद ने दिया बड़ा बयान, कहा वहां तो...जानकारी के लिए बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की अनुमति के बाद कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद जम्मू कश्मीर के 6 दिन के दौरे पर गए हुए थे। कश्मीर से वापस लौटते ही गुलाम नबी आजाद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की है और उन्होंने यह सारी बातें अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही कहीं। प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा कि अगर सरकार कश्मीर में सामान्य स्थिति का दावा करती है तो वहां से इंटरनेट और मोबाइल फोन पर पाबंदी क्यों नहीं हटाई जा रही है?

पाकिस्तान ने भेजा मनमोहन सिंह को निमंत्रण, जानिए क्या फैसला लिया…