टी.बी. के मरीजों के लिए खुशखबरी

0
355
टी.बी. के मरीजों के लिए खुशखबरी

जब टी.बी. से पीड़ित महिला पर नई दवा का ट्रायल शुरू किया गया तो उस वक्त उसका वजन सिर्फ 57 पाउंड था।

टी.बी. के मरीजों के लिए एक खुशखबरी है। टी.बी. के मरीज अब पुराने ट्रीटमेंट की जगह नई दवाएं ले सकते हैं जो काफी असरदार हैं। इन नई दवाओं से टी.बी. की सबसे खतरनाक स्टेज के इलाज में सफलता हाथ लगी है। एक्सपर्ट्स ने इसके इलाज के लिए एक ट्रायल किया और ये ट्रायल सफल भी रहा। जिससे एक्सपर्ट्स काफी खुश हैं।

महिलाओं को तेजी से शिकार बना रही है ये बीमारी, कहीं आपके अंदर तो नहीं हैं ये लक्षण?

टी.बी. के मरीजों के लिए खुशखबरी

जल्द ही टी.बी. के पुराने ट्रीटमेंट की जगह ये नई दवाएं ले सकती हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें जब टी.बी. से पीड़ित महिला पर नई दवा का ट्रायल शुरू किया गया तो उस वक्त उसका वजन सिर्फ 57 पाउंड था। उस महिला को टी.बी. का सबसे खतरनाक स्टेज का इन्फेक्शन हुआ था और वो मरने की हालत में थी। अब उसका टी.बी. ठीक हो चुका है और अब उसका वजन 103 पाउंड्स है। बता दें महिला पर जो दवा टेस्ट की गई थी, उससे जानलेवा प्लेग और टी.बी. के खतरनाक स्टेज पर 90 फीसदी सफलता हाथ लगी है। इस ट्रायल में मरीजों ने छह महीने तक हर दिन सिर्फ पांच गोलियां खाईं।

अगर आप भी ऐसे पीते हैं कॉफी तो हो जाइए सावधान!

टी.बी. के मरीजों के लिए खुशखबरी

आपको बता दें, फूज ऐंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन ने तीन नई दवाओं को अप्रूव करने की पहल की है। ट्यूबरक्युलोसिस दुनिया की सबसे खतरनाक बीमारियों में शामिल है। इसने सबसे संक्रामक और जानलेवा बीमारी एड्स को भी पीछे छोड़ दिया है। इसका इलाज काफी मुश्किल है।