CAA: सभी प्रदर्शनों में लगातार ये मांग की जा रही है की इस कानून को वापस लिया जाये।

नागरिकता संसोधन कानून (CAA) जबसे देश में आया है तबसे देशभर में इसे लेकर बवाल मचा हुआ है। देश में जगह-जगह इन कानून के विरोध में प्रदर्शन किये जा रहे हैं। जिस दौरान कई प्रदर्शनों ने काफी हिंसक रूप भी धारण किया। कई प्रदर्शनों में जमकर आगजनी और पत्थरबाजी भी की गई। सभी प्रदर्शनों में लगातार ये मांग की जा रही है की इस कानून को वापस लिया जाये। लेकिन मोदी और अमित शाह दोनों ही इस बात को साफ कर चुके हैं कि कानून किसी भी शर्त पर यह कानून वापस नहीं लिया जायेगा।

बसपा MLA ने किया CAA का समर्थन तो पार्टी ने लिया ये कड़ा फैसला

बता दें कि बीते शुक्रवार को गृह मंत्री अमित शाह ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए CAA के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शनों को लेकर कांग्रेस को मुंहतोड़ जवाब दिया था। साथ ही उन्होंने राहुल गांधी को इस मामले पर खुली बहस करने की चुनौती भी दी थी। अब इस मुद्दे पर पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने अमित शाह को करारा जवाब दिया है।

CAA: गुवाहाटी मे RSS और BJP पर राहुल गांधी का कड़ा प्रहार, RSS को बताया…

पी.चिदंबरम ने तिरुवनंतपुरम में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘अमित शाह राज्यसभा और लोकसभा में हुई डिबेट को एक बार अच्छे से याद करें। उन्होंने इस कानून से संबध में पूछे गये एक भी सवाल का जवाब नहीं दिया था। अब वो राहुल गांधी को इस मामले पर बहस करने की चुनौती दे रहे हैं। इस प्रावधान में भी कुछ भी सही नहीं है।’साथ ही पी चिदंबरम ने कहा कि, ‘8 दिसंबर को कैबिनेट की बैठक में CAB को मंजूरी मिली। 9 दिसंबर को उनके द्वारा लोकसभा में ये बिल पेश किया गया और दोपहर 12 बजे इसे सदन से मंजूरी मिल गई। 11 दिसंबर को बिल राज्यसभा में पेश किया और इस बिल को वहां से भी पास करा दिया गया। केंद्र सरकार ने इस बिल को 3 दिनों में पास करवा दिया।’