यूनियन ट्रेड द्वारा 2019 के सितंबर माह में इस बात का ऐलान कर दिया गया था कि वे 8 जनवरी 2020 को हड़ताल करने वाले हैं।

केंद्र सरकार द्वारा लागू की गई निजीकरण, श्रम सुधार और विनिवेश की नीतियों के विरोध में आज यानी बुधवार को 10 ट्रेड यूनियन देशभर में हड़ताल कर रहे हैं। जिसका सबसे ज्यादा प्रभाव बैंकिंग सेवा पर पड़ रहा हैं। मिली जानकारी के मुताबिक इस हड़ताल में करीब 25 करोड़ श्रमिक शामिल होंगे। बता दें कि इस हड़ताल में ये 10 ट्रेड यूनियन UTUC (United Trade Union Congress), HMS (Hind Mazdoor Sabha), AITUC (All India Trade Union Congress), INTUC (Indian National Trade Union Congress ), CITU (Centre of Indian Trade Unions),  AIUTUC (All India United Trade Union Centre), TUCC (Trade Union Coordination Centre) , AICCTU (All India Central Council of Trade Unions), LPF (Low Pass Filter) और SEWA (Self-Employed Women’s Association ) शामिल हैं।

JNU हमले को लेकर पुलिस ने किया बड़ा खुलासा, हिंसा में था इन लोगों…

Airtel, Reliance jio और Vodafone दे रहा है ग्राहकों को बेहतर प्लान

इसके अलावा कई क्षेत्रों के स्वतंत्र संघ के कार्यकर्ता भी इस हड़ताल में शामिल हैं। यूनियन ट्रेड द्वारा 2019 के सितंबर माह में इस बात का ऐलान कर दिया गया था कि वे 8 जनवरी 2020 को हड़ताल करने वाले हैं। बता दें कि 10 ट्रेड यूनियनों ने अपने जारी किये गये बयान में कहा, ‘आठ जनवरी को आगामी आम हड़ताल में हम कम से कम 25 करोड़ लोगों की भागीदारी की उम्मीद कर रहे हैं। उसके बाद हम कई और कदम उठाएंगे और सरकार से श्रमिक विरोधी, जनविरोधी, राष्ट्र विरोधी नीतियों को वापस लेने की मांग करेंगे।’

वहीं बात करें हड़ताल की तो ट्रेड यूनियन जनविरोधी नीतियों के अलावा श्रम कानून और शिक्षण संस्थानों में फीस बढ़ोतरी को लेकर भी विरोध कर रहे हैं। बता दें कि Bharat Bandh हड़ताल के दौरान पश्चिम बंगाल में प्रदर्शनकारियों द्वारा कुछ स्थानों पर रेलवे ट्रैक जाम कर दिये गये हैं। साथ ही मुंबई में भी इस हड़ताल की झलक देखने को मिली है।