अयोध्या विवाद: SC में अब 4 दिन होगी एक घंटे एक्ट्रा सुनवाई, पीठ ने सुनाया फैसला

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मामले को लेकर जल्द से जल्द सुनवाई पूरी करना चाहता है। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई का वक्त भी बढ़ा दिया है। खबरों की मानें तो चीफ जस्टिस रंजन गोगोई अध्यक्षता वाली पीठ अब इस मामले पर हफ्ते में सोमवार से गुरुवार तक शाम 5 बजे तक सुनवाई करेगी। यही नहीं शुक्रवार को सुबह साढ़े 10 से 1 बजे तक सुनवाई का वक्त रहेगा।

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मामले पर हिंदू पक्ष अपनी सभी दलीलें दे चुका है। हिंदू पक्ष के वकील ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि विवादित जमीन पर राम मंदिर के सबूत मिले है। वहीं मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन इस मामले पर अपनी दीललें लगातार रख रहे है। आज राजीव धवन ने सुनवाई में कहा कि पौने पांच सौ साल पहले यानी 1528 में मस्जिद बनाई गई थी और 22 दिसंबर 1949 तक लगातार नमाज हुई।

Image result for अयोध्या-विवाद-पर-अब-एक-घंटा सुनवाई,

राजीव धवन ने अपनी दलील में कहा कि हम राम का सम्मान करते है, जन्मस्थान का भी सम्मान करते है। इस देश में अगर राम और अल्लाह का सम्मान नहीं होगा तो देश खत्म हो जाएगा। धवन ने कहा कि विवाद राम के जन्मस्थान को लेकर है कि वह कहां है, पूरी विवादित जमीन जन्मस्थान नहीं हो सकती.. जैसा हिंदू पक्ष दावा कर रहे है। भगवान राम का जन्मस्था कुछ सीमित स्थान पर होगा।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 18 अक्टूबर तक मामले की सुनवाई पूरी होने की उम्मीद जताई है।  अगर मध्यस्थता से समाधान निकाला जा सकता है तो उस पर भी जस्टिस रंजन गोगोई ने सहमित जताई है लेकिन मध्यस्थता के लिए सुनवाई नहीं रोकी जाएगी।

Image result for अयोध्या-विवाद-पर-अब-एक-घंटा सुनवाई,

जस्टिस ने कहा कि अगर दलीलें पूरी करने के लिए समय कम रहेगा तो वो शनिवार को भी सुनवाई करने के लिए तैयार है। आपको बता दें कि मामले की सुनवाई जस्टिस रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति अब्दुल नजीर शामिल है।