वर्ल्ड चैम्पियनशिप के तहते खेले जा रहे इस मैच पर भी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अपना पलड़ा भारी कर लिया है।

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज का आखिरी मैच सिडनी में खेला जा रहा है। वर्ल्ड चैम्पियनशिप के तहते खेले जा रहे इस मैच पर भी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अपना पलड़ा भारी कर लिया है। इस आखिरी टेस्ट मैच में मार्नस लाबुशेन ने अपने करियर का पहला दोहरा शतक लगाया है। मार्नस लाबुशेन लगातार आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में ऊचाइयों को छू रहे हैं।

टॉस जीतकर ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। लेकिन उनकी शुरूआत अच्छी नहीं रही। कुल 39 रनों पर जो बर्न्स 18 रन बनाकर चलते बने। जिसके बाद मैदान में खेलने के लिए उतरे मार्नस लाबुशेन। उन्होंने क्रिज पर आने के बाद बेहतरीन प्रदर्शन किया और न्यूजीलैंड की टीम के छक्के छुड़ा दिए। मार्नस लाबुशेन ने खूँटा गाड़ कर बल्लेबाजी की। वहीं दूसरी ओर स्टीव स्मिथ में भी लाबुशेन का पूरा साथ दिया। पहले दिन मार्नस लाबुशेन ने पहला शतक और दूसरे दिन उन्होंने अपना दूसरा शतक पूरा किया। लाबुशेन 522 मिनट तक मैदान में डटे रहे। इसी के साथ उन्होंने 19 चौके और 1 छक्के की मदद से 215 रन बनाए और 363 गेंदों का सामना किया। वहीं मार्नस लाबुशेन का विकेट न्यूजीलैंड के स्पिन गेंदबाज टॉड एस्ले के नाम रहा।

सिडनी टेस्ट में भी ऑस्ट्रेलिया ने कसा शिकंजा

अपने करियर में मार्नस लाबुशेन ने अभी तक 14 टेस्ट मैचों की 22 पारियां खेली हैं। जिसमें उन्होंने 63.63 की औसत के साथ 1400 रन बनाए हैं। इसी के साथ उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी स्टीव स्मिथ को पीछे छोड़ दिया है। स्मिथ का टेस्ट क्रिकेट में 62.84 का औसत है। वहीं अभी तक लाबुशेन से आगे डॉन ब्रैडमैन ही है। जिनका टेस्ट क्रिकेट में सर्वोच्च 99.94 का औसत है। ऑस्ट्रेलिया ने कमजोर कीवीयों पर शिकंजा कस लिया है। पहले ही ऑस्ट्रेलिया ने 2-0 से तीन मैचों की टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर लिया था। वहीं अब मार्नस लाबुशेन के दोहरे शतकों की बदौलत ऑस्ट्रेलियाई टीम मजबूर स्थिति में पहुंच गई है। इसी के साथ कांगारु टीम अब सीरीज में क्लीन स्वीप करने की कोशिश में हैं।