अलका लांबा करीब 20 साल कांग्रेस में रहने के बाद दिसंबर 2014 को आप में शामिल हुई थीं। तथा उन्होंने अगले विधानसभा चुनाव में निर्दलीय चुनाव लड़ने की बात कही है।

अलका लांबा का पिछले साल से ही आम आदमी पार्टी (आप) से मनमुटाव चल रहा था। चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा ने शुक्रवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। अलका ने बीते मंगलवार को कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गाँधी से मुलकात की थी। कांग्रेस से अलका का रिश्ता काफी पुराना है। 15 साल कांग्रेस ने देश की राजधानी दिल्ली पर राज किया था। उसके बाद 2015 में आम आदमी पार्टी ने बहुमत से जीत हासिल की, उस वक़्त अलका ने आम आदमी पार्टी में शामिल हुईं थी

महाराष्ट्र के नए महामहीम भगत सिंह कोश्यारी…

कुछ इस अंदाज़ में अलका लम्बा ने दिया आम आदमी पार्टी से इस्तीफा!

अलका को चांदनी चौक का विधायक घोषित किया गया था। आपको बता दें कि विधानसभा में दिसंबर 2018 में 1984 के सिख दंगों का हवाला देकर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का भारत रत्न वापस लेने का प्रस्ताव पारित किया गया था। जिसका विरोध अलका लाम्बा ने किया था इसके बाद वह सदन से बाहर निकल गई थीं। जिसकी वजह से आम आदमी पार्टी ने उनसे इस्तीफ़े की मांग की थीं।

नज़र हटी जेब कटी! चार दिनों में ट्रैफिक पुलिस ने जमा की इतनी रकम!

जब से अलका से भारत रतन वापस लेने की बात हुई, और आम आदमी पार्टी ने उनसे इस्तीफे की मांग की तभी से उनकी और दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल की अनबन की खबरें काफी सुर्खियां बटोरने लगी। अलका ने एक अलग ही अंदाज़ में अपना इस्तीफा दिया। अलका ने अपने ट्विटर अकॉउंट से ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी।

कुछ इस अंदाज़ में अलका लम्बा ने दिया आम आदमी पार्टी से इस्तीफा!

अलका लांबा ने कहा आप अब खास हुई

अलका लांबा ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘अरविंद केजरीवाल जी आपके प्रवक्ता ने आपकी इच्छानुसार मुझे घमंड के साथ कहा था कि पार्टी मेरा इस्तीफा ट्विटर पर भी स्वीकार कर सकती है। इसलिए कृपया आम आदमी पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से मेरा इस्तीफा स्वीकार करें। यह अब ‘खास आदमी पार्टी’ हो गई है।’’ तथा उन्होंने ट्वीट किया कि बीते 6 साल की यात्रा के दौरान काफी कुछ सीखने को मिला, सभी को धन्यवाद अलका ने दिल्ली विधानसभा में राजीव गांधी का भारत रत्न वापस लेने के प्रस्ताव का विरोध किया था।

जानिए! क्या होगा अलका लाम्बा का अगला क़दम?

अलका लांबा करीब 20 साल कांग्रेस में रहने के बाद दिसंबर 2014 को आप में शामिल हुई थीं। तथा उन्होंने अगले विधानसभा चुनाव में निर्दलीय चुनाव लड़ने की बात कही है।

अलका लांबा करीब 20 साल कांग्रेस में रहने के बाद दिसंबर 2014 को आप में शामिल हुई थीं। तथा उन्होंने अगले विधानसभा चुनाव में निर्दलीय चुनाव लड़ने की बात कही है। आपको बता दे कि वह 2015 विधानसभा चुनाव में दिल्ली के चांदनी चौक से विधायक चुनी गईं।