नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर अभी देश में आग ठंडी भी नहीं हुई थी कि समाजवादी पार्टी ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) को ही कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर अभी देश में आग ठंडी भी नहीं हुई थी कि समाजवादी पार्टी ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) को ही कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। सपा ने अब आग में घी डालने का काम किया है। यूपी के पूर्व सीएम और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार को खरी-खोटी सुनाई है।

Image result for अखिलेश यादव ने CAA के बाद NRP

जहां एक तरफ लखनऊ में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने हिंसा के आरोपियों का समर्थन किया तो वहीं दूसरी तरफ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अब एनपीआर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने ऐलान करते हुए कहा कि ना तो वह और ना ही उनका कोई कार्यकर्ता NPR फॉर्म भरेगा। अखिलेश ने कहा कि बीजेपी तय नहीं करेगी कि कौन भारतीय है और कौन नहीं। उन्हें एनपीआर नहीं रोजगार चाहिए।  अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यालय में युवा नेताओं के साथ बैठक करने के बाद माडिया से बात करते हुए कहा कि मेरे साथ ही समाजवादी पार्टी का कोई भी कार्यकर्ता जनसंख्या रजिस्टर का फॉर्म नहीं भरेगा।

Image result for CAA के बाद NRP

बीजेपी पर हमलावर होते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि पहले तो भारत बाचाओं उसके बाद गिनती करो। हम कोई दस्तावेज नहीं दिखाएंगे क्योंकि हम इसी देश के नागरिक हैं। बीजेपी बेरोजगारी और कई अहम मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए यह सब काम कर रही है।  अखिलेश ने आगे कहा कि विशेषज्ञों का कहना है अर्थव्यवस्था आईसीयू में पहुंच गई है। मोदी सरकार जनता से घबरा गई है।