लूट के इरादे से आए आरोपियों ने चलती ट्रेन मे किया ऐसा काम…

0
351
लूट के इरादे से आए आरोपियों ने चलती ट्रेन मे किया ऐसा काम...

उत्तर प्रदेश के लिए यह कहना गलत नहीं होगा। कि यहां क्राइम पर प्रसाशन का कन्ट्रोल नही हो पा रहा है।

देश मे लगातार बढ़ रहे क्राइम मे कोई कमी नही आ रही है दिन प्रतिदिन कुछ ना कुछ सुनने को मिलता ही है ऐसे मे अगर बात आती है उत्तर प्रदेश की तो यह कहना गलत नहीं होगा कि यहां क्राइम पर प्रसाशन का कन्ट्रोल नही हो पा रहा है।

दरअसल, उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में लुटेरों ने एक महिला और उसकी बेटी को लूट का विरोध करने पर चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया। घटना में दोनों की मौत हो गई. पुलिस के मुताबिक महिला और उसकी बेटी दिल्ली से कोटा जा रहे थे। आरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि घटना अजहाई रेलवे स्टेशन के निकट हुई जब दिल्ली के शाहदरा की निवासी मीना (55) अपनी बेटी मनीषा (21) और बेटे आकाश (23) के साथ निजामुद्दीन-तिरुवनंतपुरम सेन्ट्रल एसएफ एक्सप्रेस (22634) ट्रेन में सफर कर रही थीं। अधिकारी के मुताबिक मनीषा को इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा के लिये कोचिंग संस्थान में दाखिला लेना था, जिसके लिए वे कोटा जा रहे थे। तड़के मीना ने लुटेरे को उनका बैग ले जाते हुए देखा।  Image result for चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया।

आरोपियों ने उनका बैग पकड़ रखा था और शोरगुल की आवाज से उठी मनीषा ने भी बैग को छुड़ाने की कोशिश की। इसके बाद एक लुटेरा उन्हें खींचता हुआ स्लीपर कोच के गेट पर पहुंच गया और बैग छीनकर मां-बेटी को ट्रेन से धकेल दिया। महिला के बैग में मोबाइल फोन, नकदी, कोचिंग और हॉस्टल की फीस के चैक तथा अन्य कीमती सामान थे। अपनी मां और बहन को ट्रेन से बाहर फेंके जाने के बाद तुरंत बाद आकाश ने ट्र्रेन की चेन खींची लेकिन तब तक ट्रेन वृंदावन रोड रेलवे स्टेशन पहुंच गयी। इसके बाद आकाश ने घटना की पूरी जानकारी पुलिस को दी।

घटना की जानकारी मिलते ही आरपीएफ ने घटनास्थल के लिए एक एंबुलेंस को रवाना कर दिया. लेकिन इससे पहले की एंबुलेंस दोनों घायलों को पास के अस्पताल तक पहुंचा पाती दोनों की मौत हो गई.आरपीएफ ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. साथ ही गिरफ्तारी के लिए विशेष टीम बना दी गई है।