बौखलाए पाकिस्तान के मुँह पर तमाचा, साधू-संतों ने किया सेंधा नमक का बहिष्कार

0
837

पाकिस्तान आयतित सेंधा नमक का पूर्ण बहिष्कार

पाकिस्तान की धमकी का जवाब जाना शुरू हो चुका है और ये पहल काशी से हुई है। पाकिस्तान को मुँह-तोड़ जवाब देने के लिए काशी के संतो-महंतो ने एक-साथ पाकिस्तान से आने वाले सेंधा नमक के बहिष्कार का संकल्प लिया है।

बता दें आपको कि धारा 370 को हटाने के विरोध में पाकिस्तान ने भारत के साथ अपने व्यापारिक संबंध को खत्म करने की धमकी दी थी। जबकि सेंधा नमक पाकिस्तान के झेलम जिले की खेवरा, कालबाग और वारछा नामक चट्टानों में ही पाया जाता है। यही वजह है कि सेंधा नमक पाकिस्तान से मंगाया जाता है। वैसे तो पाकिस्तान उत्पादन के मामले में ज़्यादातर भारत पर ही निर्भर रहता है। बावजूद इसके पाकिस्तान का ये कहना की वह भारत के साथ व्यापारिक सम्बन्धों पर प्रतिबंध लगाएगा अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है।

व्रत-उपवास में अब नहीं होगा इस्तेमाल सेंधा नमक: साध्वी गीतांबरा

पाकिस्तान की इस धमकी के बाद काशी में साध्वी गीताम्बरा की अध्यक्षता में शुक्रवार को एक बैठक बुलायी गयी जिसमें एक बड़ी संख्या में दंडी स्वामियों और संतो-महंतो ने एक स्वर होकर व्रत-उपवास में प्रयोग किये जाने वाले सेंधा नमक का बहिष्कार कर दिया है। सेंधा नमक के बहिष्कार के प्रस्ताव को सभी संतों की सर्वसम्मति से स्वीकृति भी मिल चुकी है। साथ ही इसके लिए एक पोस्टर भी जारी किया गया है जिसकी शुरुआत सोमवार से होगी। इस पोस्टर के माध्यम से काशी के लोगो से ये अनुरोध किया गया है कि इस सावन के आखिरी सोमवार से फलाहार बगैर सेंधा नमक के करें। इसके अलावा संत समाज द्वारा ये मुहिम सिर्फ बनारस तक ही नहीं, वरन पूरे भारत में फैलायी जाएगी जहां भारत में सेंधा नमक का पूर्ण बहिष्कार किया जाएगा।