जानें कौन हैं राफेल फाइटर जेट उड़ाने वाली पहली महिला पायलट

हमारे देश की महिलाएं हर चीज़ में निरंतर आगे बढ़ रही हैं। शहर तो शहर गांव में भी लोगों की सोच में तबदीली आने लगी है। आज महिलाएं ज़मीन से लेकर आसमान तक अपना मुक़ाम बनाने में लगी हैं। किसी महिला का पायलट होना आज कोई बड़ी बात नही है लेकिन राफेल उड़ाने वाली पहली महिला पायलट होने का अवसर किसी को प्राप्त हो तो ये बड़ी बात है। बनारस की शिवांगी को राफेल स्क्वाड्रन की पहली महिला फाइटर पायलट बनने का मौका मिला है।

महिलाएं सारी वर्जनाएं तोड़कर नित नया इतिहास लिख रही हैं। भारतीय सेना भी नारी के सशक्त स्वरूप का गवाह बन रही है। फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह दुनिया की सर्वोत्तम श्रेणी के युद्धक विमानों में एक राफेल की पहली महिला पायलट बनने जा रही हैं। राफेल जैसे ही भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल मिग-21 ‘बाइसन’ की जगह लेंगे, शिवांगी इस भूमिका में आ जाएंगी। ये संयोग है कि पिछले साल दिसंबर में शिवांगी नाम की ही एक और महिला भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट बनी थीं। वो बिहार की मुजफ्फरपुर की रहने वाली हैं।

कोझिकोड विमान हादसा :- कुछ ही दिनों में पिता बनने वाले थे को-पायलट

उत्तर प्रदेश के वाराणसी की रहने वाली फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह ‘कन्वर्जन ट्रेनिंग’ पूरा करते ही वायुसेना के अंबाला बेस पर 17 ‘गॉल्डन एरोज’ स्क्वैड्रन में औपचारिक एंट्री लेंगी। किसी पायलट को एक फाइटर जेट से दूसरे फाइटर जेट में स्विच करने के लिए ‘कन्वर्जन ट्रेनिंग’ लेने की जरूरत होती है। हालांकि, मिग-21एस उड़ा चुकीं शिवांगी के लिए राफेल उड़ाना कोई चुनौतीपूर्ण काम नहीं होगा क्योंकि मिग 340 किमी प्रति किमी की स्पीड के साथ दुनिया का सबसे तेज लैंडिंग और टेक-ऑफ स्पीड वाला विमान है।

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) से पढ़ी-लिखीं फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह महिला पायलटों के दूसरे बैच की हिस्सा हैं जिनकी कमिशनिंग 2017 में हुई। भारतीय वायुसेना के पास फाइटर प्लेन उड़ाने वाली 10 महिला पायलट हैं जो सुपरसोनिक जेट्स उड़ाने की कठिन ट्रेनिंग से गुजरी हैं। बता दें कि एक पायलट को ट्रेनिंग पर 15 करोड़ रुपये का खर्च आता है। शिवांगी के पिता शिवांगी की इस उपलब्धि पर बताते हैं कि उसका सपना था कि वह विमान उड़ाए। हम लोगों को गर्व है कि हमारी बेटी बनारस के साथ ही देश का नाम रोशन करेगी। शिवांगी ने 2013 से 2016 तक बीएचयू के एनसीसी का प्रशिक्षण लिया था और सनबीम भगवानपुर से बीएससी किया था।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है