Farmers Protest: 5वें दौर की बातचीत शुरू,किसान नेताओं ने कहा, ‘तारीख पर तारीख न दें’

0
515
Fifth round of talks between Centre and Farmers' underway in Delhi

नई दिल्ली: कृषि कानूनों के खिलाफ किसानो का धरना 10वें दिन भी जारी हैं। उधर दिल्ली के विज्ञान भवन में केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान नेताओं की बातचीत शुरू हो गई हैं। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर सहित सरकार की ओर से तमाम प्रतिनिधि भी विज्ञान भवन पहुंच चुके हैं और किसानों नेताओं के साथ कृषि कानूनों को लेकर उनकी बातचीत चल रही है।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह

केन्द्र के साथ बातचीत करने के लिए विज्ञान भवन जाने के लिए शनिवार को सिंघु बॉर्डर पर बसों में सवार होते समय किसान नेताओं ने कहा कि यह बातचीत का अंतिम दौर होगा। साथ ही चेतावनी दी कि कोई नतीजा न निकलने की सूरत में वे अपने आंदोलन को और तेज करेंगे।

कई केंद्रीय मंत्रियों के साथ 35 संगठनों के किसान नेताओं के बीच दोपहर 2 बजे बैठक निर्धारित है। बैठक से पहले किसान नेताओं ने स्पष्ट रूप से कहा कि कृषि कानूनों के लिए कोई और बातचीत या ‘संशोधन’ स्वीकार्य नहीं होगा और यदि बातचीत का अंतिम दौर भी बेनतीजा रहा, तो उनका आंदोलन गति पकड़ेगा, साथ ही और बड़ा रूप लेगा।

किसान एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष बूटा सिंह ने कहा, “हमने पहले सरकार से कहा था कि इन कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए और आंदोलन खत्म हो जाएगा। हम किसी भी संशोधन से खुश नहीं होंगे। हम अपने रुख पर बहुत स्पष्ट हैं कि कानूनों को वापस लिया जाना चाहिए।”

प्रतिनिधिमंडल के एक अन्य सदस्य दलजीत सिंह ने कहा कि जब भी वे केंद्र के साथ बैठकों के लिए जाते हैं, तो उन्हें उम्मीद रहती कि उनकी मांगों को पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा, “लेकिन सरकार इसके लिए तैयार नहीं है। यदि आज की बैठक भी बेनतीजा रही, तो आंदोलन को और अधिक तेज किया जाएगा और हम ‘भारत बंद’ का भी आह्वान करेंगे।”

बता दे की शनिवार सुबह किसानों की मांग को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने मंत्रिमंडल के वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई। इस बैठक में गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गोयल शामिल हुए थे। बैठक में शामिल होने के लिए लोकसभा स्पीकर ओम बिरला भी पीएम आवास पर पहुंचे थे। यह बैठक करीब दो घंटे चली। शनिवार को किसान संगठनों के साथ पांचवें दौर की बैठक के ये मीटिंग बेहद अहम मानी जा रही है।