Farmers take part in a nationwide general strike to protest against the recent agricultural reforms at the Delhi-Haryana state border in Singhu on December 8, 2020. (Photo by Sajjad HUSSAIN / AFP) (Photo by SAJJAD HUSSAIN/AFP via Getty Images)

जारी हुआ हर घर से एक सदस्य को Kisan Andolan में शामिल होने का निर्देश

मंद पड़ते पड़ते Kisan Andolan एक बार फिर से तेज़ होने जा रहा है। कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के किसान पिछले कई महीनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। बठिंडा जिले की विर्क खुर्द गांव से हर परिवार से कम से कम एक सदस्य को Delhi border पर भेजने की घोषणा की गई है।

नवंबर के अंतिम सप्ताह से Delhi Border पर बड़ी संख्या में बैठे किसानों को प्रदेश में पूरा समर्थन मिल रहा है। हर गांव से लोग और Tractors इस Andolan में शामिल हैं। गांव-गांव में लोगों से इस संबंध में अपील भी की जा रही है। बता दें कि Gram Panchayat ने गांव के लोगों के लिए लिखित आदेश दिया। हर घर से एक सदस्य को एक सप्ताह के लिए Border पर भेजने का निर्देश जारी किया गया।

Delhi हिंसा में घायल पुलिसकर्मियों से मिलने पहुंचे Amit Shah

Virk Khurd गांव की सरपंच मनजीत कौर ने कहा, ‘जो लोग Andolan का हिस्सा नहीं बनेंगे, उनपर 1500 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। साथ ही उनका बहिष्कार भी किया जाएगा।’ गांव के लोगों ने भी सरपंच के इस निर्देश का पूरा सहयोग करने का फैसला किया है।

Republic Day के दिन किसानों ने बड़ी संख्या में ट्रैक्टर रैली भी निकाली, जिस दौरान हिंसा हो गई। Hariyana की सीमा से लगते Singhu Border और Tikri Border पर पंजाब के किसानों का आंदोलन दो महीने से भी अधिक समय से जारी है। इसके साथ ही हरियाणा के पलवल, UP के चिल्ला और Ghazipur border पर भी प्रदर्शन चल रहा है।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है