Dussehra 2022: जानें क्यों रावण, कुम्भकर्ण को बचाने-छुपाने में लगे लोग 

0
178

देश भर में आज Dussehra मनाया जा रहा है। कुछ घंटों बाद रावण दहन होना है जिसे देखने के लिए लोग कब से इंतज़ार कर रहे हैं लेकिन रावण दहन से पहले ही सब रावण, कुम्भकर्ण और मेघनाथ को बचाने-छुपाने में लग गए हैं। आख़िर जिस रावण ने श्री राम के साथ युद्ध करने और उन्हें ख़त्म करने की कोशिश की उस रावण से लोग इतनी हमदर्दी क्यों दिखा रहे हैं। Coronavirus के चलते दो साल बाद Dussehra मेला लगा है। ऐसे में बच्चों से लेकर बड़े भी रावण दहन देखने के लिए बेताब हैं लेकिन रावण दहन से पहले ही रावण को मेह्फूस जगह पर ले जाया जा रहा है। इसके पीछे की वजह है आख़िर है क्या…

विजयदशमी के दिन बुधवार(5 अक्टूबर) को सुबह से शुरू हुई तेज़ बारिश ने लोगों की चिंता बढ़ा दी। एक तरफ सभी की निगाहें गुरुवार को यहां के इकाना स्टेडियम में होने जा रहे भारत-दक्षिण अफ्रीका के मैच पर टिकी हैं तो दूसरी ओर जगह-जगह रावण दहन की तैयारी है। बारिश तेज़ हुई तो जहां रावण के पुतले तैयार किए हैं उनको भींगने से बचाने के इंतज़ाम होने लगे।

लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क में बारिश से पुतलों को बचाने के लिए प्लास्टिक की शीट से ढंका गया। मेट्रो सिटी, जनेश्वर मिश्र पार्क, एच ए एल, अलीगंज सेक्टर आठ चौराहा स्थित रावण के पुतले गल गए। वहीं, लोगों की चिंता इस बात को लेकर भी है कि बारिश का सिलसिला यूं ही जारी रहा तो कहीं मैच का मज़ा किरकिरा न हो जाए। विदाई कर रहा मानसून लखनऊ और आसपास के क्षेत्रों पर मेहरबान है। मौसम विभाग ने पहले ही बारिश का पूर्वानुमान जताया था। कुछ वक़्त के लिए नॉएडा में भी बारिश हुई और यहां भी रावण को बचाने-छुपाने में लोग लग गए।

यह भी पढ़ें – Dussehra 2022: Delhi-NCR में इन जगहों पर आज होगा रावण दहन

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है