मैनपुरी उपचुनाव के लिए Dimple Yadav ने नामांकन दाखिल किया

0
175

चुनाव कोई सा भी हो उससे पहले नामांकन दाखिल करना ही पड़ता है। Mulayam Singh Yadav के निधन के बाद मैनपुरी लोकसभा सीट पर 5 दिसम्‍बर 2022 को होने वाले उपचुनाव के लिए Dimple Yadav ने नामांकन दाखिल कर दिया है। नामांकन दाखिल करने के बाद पत्रकारों से बातचीत में Akhilesh Yadav ने कहा कि यह चुनाव ऐसे में होने जा रहा है जब नेताजी (मुलायम सिंह यादव) हमारे बीच नहीं हैं। उन्‍होंने मैनपुरी की जनता से नेताजी के नाम पर ऐतिहासिक जीत दिलाने की अपील की।

Dimple Yadav ने कहा कि नेताजी का आशीर्वाद हमेशा मेरे साथ है। डिंपल के नामांकन में शिवपाल सिंह यादव के शामिल को टालते हुए Akhilesh Yadav ने कहा कि पूरा परिवार साथ है। नामांकन से पहले डिंपल और अखिलेश ने सैफई में Mulayam Singh Yadav के समाधि स्‍थल पर जाकर उन्‍हें श्रद्धांजलि दी और आशीर्वाद लिया। वहीं कलेक्‍ट्रेट में Dimple Yadav ने चाचा रामगोपाल यादव के पैर छूकर आशीर्वाद लिए।

नामांकन के बाद प्रेम कांफ्रेंस में Akhilesh Yadav ने कहा कि मैनपुरी की जनता से नेताजी का सीधा-सीधा लगाव रहा है। नेताजी की शुरुआत और राजनीति के क्षेत्र में संघर्ष यहीं मैनपुरी में यहां की जनता के साथ रहा। आज जब नेताजी हमारे बीच में नहीं हैं मैं मैनपुरी की जनता से यही अपील करना चाहता हूं कि नेताजी के बताए हुए रास्ते पर हम सब चलें। जिस राजनीतिक, सामाजिक सम्‍मान के साथ नेताजी ने आर्थिक लड़ाई लड़ी है उसे आगे बढ़ाने का काम समाजवादी पार्टी करेगी। डिंपल यादव यहां से प्रत्‍याशी हैं और मुझे पूरा भरोसा है कि यहां की जनता एक बार फिर नेताजी के नाम पर उन्‍हें ऐतिहासिक वोटों से जिताएगी।

इस मौके पर Dimple Yadav ने कहा कि मैनपुरी ने नेताजी को पहचान दी और नेताजी ने मैनपुरी को पहचान दी। नेताजी का आशीर्वाद हमेशा मेरे साथ रहा है। मुझे उम्‍मीद है कि मैनपुरी की जनता का आशीर्वाद भी समाजवादी पार्टी के साथ रहेगा, आने वाले दिनों में। प्रेस कांफ्रेंस में Akhilesh Yadav ने शिवपाल सिंह यादव के नामांकन में मौजूद न रहने के सवाल को कई बार टालने की कोशिश की। उन्‍होंने कहा कि नेताजी के निधन से दुखी होने के चलते केवल प्रस्‍तावकों और बहुत कम समर्थकों के साथ नामांकन किया है। उन्‍होंने दावा किया कि पूरा परिवार साथ है और आने वाले दिनों में सब मिलकर चुनाव प्रचार करेंगे। बता दें कि आज शिवपाल सिंह यादव लखनऊ में अपनी पार्टी के कार्यालय पर मौजूद रहे। वह डिंपल के नामांकन के लिए मैनपुरी नहीं गए।

यह भी पढ़ें – नहीं हो रहा Shoaib Malik और Sania Mirza का तलाक, जानबूझकर फैलाई ये ख़बर

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है