अब कर्नाटक में उठने लगी मस्जिद के Loudspeaker पर प्रतिबंध की मांग

0
196

इस बार रमज़ान और नवरात्रि का त्यौहार साथ साथ मनाया जा रहा है। सभी देशवासी रोज़ा और व्रत रखने में मशगूल हैं वहीं दूसरी तरफ कर्नाटक में मुस्लिम व्यापारियों को मंदिर परिसर में स्टॉल लगाने के खिलाफ और उसके बाद हलाल मांस विरोधी अभियान चलाने के कुछ दिनों बाद, बजरंग दल और श्री राम सेना के नेतृत्व वाले दक्षिणपंथी संगठन अब मस्जिदों में Loudspeaker पर प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, कुछ हिंदू समूह अज़ान के दौरान ‘ओम नमः शिवाय’, ‘जय श्री राम’, ‘हनुमान चालीसा’ के पाठ और अन्य भक्ति प्रार्थनाओं को बजाने की योजना बना रहे हैं। राज्य सरकार ने मामले की संवेदनशीलता को ध्यान में रखते हुए पुलिस को सुरक्षा व्यवस्था मजबूत करने का निर्देश दिया है। भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारी और राज्य मंत्री केएस ईश्वरप्पा ने कहा कि मुस्लिम समुदाय को विश्वास में लेने से ही इस मुद्दे का कोई समाधान निकाला जा सकता है। उन्होंने कहा कि समुदाय लंबे समय से नमाज़ के लिए Loudspeaker का इस्तेमाल करने की परंपरा का पालन कर रहा है, लेकिन यह छात्रों, बच्चों और मरीज़ों को परेशान कर रहा है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता ईश्वरप्पा ने कहा, “यह हमारे लिए ‘हनुमान चालीसा’ को ज़ोर से बजाने की प्रतियोगिता नहीं है। मुझे आपके (मुसलमानों) नमाज अदा करने में कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन अगर मंदिरों और चर्चों में भी इसी तरह लाउडस्पीकर के माध्यम से प्रार्थना की जाती है, तो इससे समुदायों के बीच संघर्ष होगा।”

ईश्वरप्पा के कैबिनेट सहयोगी सी एन अश्वथ नारायण ने कहा कि सरकार अजान के संबंध में कोई नया कानून नहीं लाई है। उन्होंने कहा, “हम कानूनों में निर्दिष्ट नियमों के अनुसार काम कर रहे हैं। हम किसी के पक्ष में या किसी के खिलाफ काम नहीं कर रहे हैं।”

बजरंग दल के सदस्य भरत शेट्टी ने कहा कि मस्जिदों में Loudspeaker के खिलाफ अभियान बेंगलुरु के अंजनेय मंदिर में शुरू होगा और बाद में पूरे राज्य में चलाया जाएगा। प्रमोद मुतालिक के नेतृत्व वाली श्री राम सेना ने कहा कि उसने सुबह 5 बजे लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल को रोकने के लिए अधिकारियों को एक अनुरोध प्रस्तुत किया था, लेकिन बेलगावी जिले के तहसीलदार और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा, “हम उनकी प्रार्थना का विरोध नहीं करते। लेकिन हम Loudspeaker के इस्तेमाल का विरोध करते हैं। अगर मस्जिदों से Loudspeaker नहीं हटाए गए तो हम हर सुबह भजन बजाएंगे।” उन्होंने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हर दिन रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक Loudspeaker के इस्तेमाल पर रोक लगाया है।

यह भी पढ़ें – इस दिन सात फेरे लेंगे Alia Bhatt और Ranbir Kapoor

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है