CPCB के सुझाव से ख़त्म होगा Delhi-NCR का Air Pollution

0
163

Delhi-NCR में Air Pollution ने जो हालात पैदा किए उससे सभी वाक़िफ़ हैं लेकिन इस मुसीबत से निजात कैसे मिलेगी ये सवाल सभी के दिमाग में घूम रहा है। Central Pollution Control Board (CPCB) ने शहर के लिए एक ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP) के कार्यान्वयन के माध्यम से Delhi-NCR में Air Pollution से निपटने के उपायों के कुछ सुझाव दिए हैं।

Pollution Control Board की आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार, एक उप-समिति ने सोमवार को एक बैठक बुलाई और Delhi-NCR के लिए वायु गुणवत्ता की स्थिति के साथ-साथ मौसम विज्ञान और वायु प्रदूषण के पूर्वानुमान की समीक्षा की। अधिसूचना में कहा गया है कि आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार, अगले पांच दिनों तक उत्तर-पश्चिमी हवाएं चलने की उम्मीद है, जिससे संभवतः पराली जलाने से होने वाला प्रदूषण और बढ़ सकता है। इसके अलावा, आने वाले दिनों में प्रतिकूल मौसम के कारण हवा की गुणवत्ता में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

CPCB ने संबंधित एजेंसियों को उप-समिति द्वारा लिए गए निर्णयों के आधार पर कार्रवाई को सख्ती से लागू करने का निर्देश दिया है। बोर्ड ने कहा कि ‘गंभीर श्रेणी’ के तहत कार्रवाई करते हुए एक्यूआई के ‘बहुत खराब’ और ‘खराब से मध्यम’ के तहत सूचीबद्ध कदमों को Delhi-NCR में तत्काल प्रभाव से लागू किया जाना चाहिए।

आदेश में सुझाए गए कुछ उपायों में – सड़कों की मशीनों से सफाई और सड़कों पर पानी का छिड़काव बढ़ाना, अधिक धूल वाली सड़कों के हिस्सों की पहचान करना, यह सुनिश्चित करना कि Delhi-NCR में सभी ईंट भट्टों को National Green Tribunal (एनजीटी) के निर्देशों के अनुसार बंद रखा जाए।

इसके साथ ही अधिसूचना में संबंधित अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि Delhi-NCR में सभी हॉट मिक्स प्लांट और स्टोन क्रशर बंद रहें। साथ ही NCR में कोयला आधारित बिजली संयंत्रों के संचालन को कम करने के लिए मौजूदा प्राकृतिक गैस-आधारित संयंत्रों से बिजली उत्पादन बढ़ाने का निर्देश दिया है (बदरपुर बिजली संयंत्र पहले ही बंद हो चुका है)।

CPCB के दिशानिर्देशों में सार्वजनिक परिवहन सेवाओं को तेज करने। ऑफ-पीक ऑवर में यात्रा को प्रोत्साहित करने के लिए किराए में अंतर रखने। राज्यों को Air Pollution के स्तर के बारे में जानकारी का प्रसार करने और Air Pollution को कम करने के कदमों के बारे में नागरिकों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए कहा गया है।

अधिसूचना में कहा गया है कि जिम्मेदार एजेंसियों कोउचित स्तर पर की गई कार्रवाई की बारीकी से निगरानी करनी चाहिए और संबंधित अधिकारियों को एक दैनिक रिपोर्ट देनी चाहिए।

यह भी पढ़ें – UP पकड़ेगा रफ़्तार, जल्द ही UP में होंगे 6 Expressway

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है