अब दिल्ली में बच्चों को नहीं उठाना पड़ेगा भारी बस्ता

स्कूल जाने वाले किसी भी स्टूडेंट के कंधे पर आपको भारी सा बैग ज़रूर नज़र आ जाएगा। अपने वज़न से ज़्यादा भारी बस्ता उठाने में बच्चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था जिसे देखते हुए अब दिल्ली सरकार ने स्कूलों को नई स्कूल बैग नीति लागू करने का आदेश दे डाला है।

दिल्ली की Aam Aadmi Party Government ने स्कूलों को ‘नई स्कूल बैग नीति’ लागू करने को कहा है, जिससे बच्चों के बैग का वजन कम किया जा सके। बता दें कि शिक्षा निदेशालय (डीओई) ने सभी स्कूलों के प्रधानाचार्यों को लिखे पत्र में कहा है कि स्कूल जाने वाले छात्रों के स्वास्थ्य के लिए भारी School bag गंभीर खतरा हैं। बच्चों के विकास पर इसका खराब शारीरिक प्रभाव पड़ता है। यह उनके घुटनों एवं रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुंचा सकता है। पत्र में यह भी कहा गया है कि 2 और 3 मंजिला इमारतों में चलने वाले स्कूलों में बच्चे भारी बस्ता लेकर सीढ़ियां चढ़ते हैं जिससे परेशानी बढ़ सकती है। शिक्षा मंत्रालय ने पिछले महीने New School Bag Policy को अधिसूचित किया है जो नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप है।

पूरे उत्तर भारत में ठंड का कहर जारी, दिल्ली में बारिश के साथ गिरे ओले

पत्र में कहा गया है कि Pre-primary Class के लिए कोई किताब नहीं और कक्षा 1 और 2 के लिए के लिए सिंगल Notebook के साथ ही बार-बार School Bag चेक करने तक यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है ताकि छात्र भारी वजन न उठाएं। प्रिंसिपल उपयुक्त प्रकार के School bag के बारे में छात्रों और अभिभावकों को बताएं और छात्रों को सरकार द्वारा की गई सिफारिशों के मुताबिक बैग उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करें। बता दें कि स्कूल बैग का वजन पाठ्यपुस्तक, गाइड, होमवर्क या Classwork notebook, रफ वर्क नोटबुक, पानी की बोतल, लंच बॉक्स, और कभी-कभी स्कूल बैग के भारी वजन को बढ़ाकर बढ़ाया जाता है। विभिन्न कक्षाओं में पाठ्यपुस्तकों की संख्या वैधानिक निकायों द्वारा निर्धारित संख्या से ज़्यादा नहीं होनी चाहिए। इसके साथ ही स्कूल प्रमुखों और शिक्षकों को प्रत्येक कक्षा के लिए इस तरह से Time table बनाने चाहिए ताकि बच्चों को हर दिन बहुत सारी Books या notebook स्कूल में न लानी पड़ें।

सुझावों के मुताबिक जो नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के अनुरूप हैं, कक्षा 1-10 के बीच के छात्रों के लिए स्कूल बैग का वजन उनके शरीर के वजन के 10 %से अधिक नहीं होना चाहिए। पत्र में कहा गया है कि अन्य कक्षाओं के लिए, हर सब्जेक्ट के लिए अभ्यास, प्रोजेक्ट, Unit Test और Experiments आदि काम के लिए एक नोटबुक होगी, जोकि छात्रों को Time table के मुताबिक लानी होगी। स्कूल छात्रों को अतिरिक्त Books या अतिरिक्त सामग्री लाने के लिए नहीं कहा जाना चाहिए।

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते हैं