CPCB का प्रदूषण पर बड़ा एक्शन, दिल्ली सरकार को जारी किया नोटिस

0
466
Central Pollution Control Board, Central Environment Minister Prakash

नई दिल्‍ली: देश की राजाधानी दिल्‍ली दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में दूसरे नंबर है। वहीं ठंड शुरू होते ही हर बार की तरह दिल्‍ली की हवा एक बार फिर जहरीली हो चुकी है। दिल्‍ली की आम आदमी की सरकार के कई प्रयासों के बाद भी दिल्‍ली में लोगों का सांस लेना अभी भी दूभर हो रहा है। वहीं अब केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने दिल्‍ली सरकार को नोटिस जारी किया है।

वहीं केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शुक्रवार को प्रदूषण पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने दिल्ली सरकार को एक नोटिस जारी कर कहा है कि प्रदूषण को बढ़ाने वाली गतिविधियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करें। जावड़ेकर ने बताया, ‘दिल्‍ली की हवा की गुणवत्‍ता काफी खराब हो गई है। हालांकि पराली जलाने का काम बंद हो गया है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने दिल्‍ली सरकार को नोटिस जारी किया है। इसके तहत प्रदूषण पैदा करने के कारणों पर कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है।’

बता दे की वायु प्रदूषण के लिहाज से राजधानी दिल्ली में अगस्त का महीना काफी अच्छा रहा, जबकि नवंबर बेहद खराब रहा। नवंबर में वाहनों से निकलने वाना धुआं, औद्योगिक इकाइयों एवं पराली के कारण होने वाला प्रदूषण संयुक्त रूप से राजधानी वासियों के लिए जानलेवा बना गया। पूरे नवंबर में राजधानी के वायु प्रदूषण स्तर पर सेंटर फॉर साइंस एंड एन्वायरनमेंट (सीएसई) ने अध्ययन कर एक रिपोर्ट तैयार की है। इस रिपोर्ट से आंकड़ों के आधार पर कई नई चीजें पता चलती हैं। इस अध्ययन में पाया गया है कि लंबे लॉकडाउन के दौरान वायु प्रदूषण न्यूनतम पर पहुंचा लेकिन नवंबर में ठंड का मौसम शुरू होते ही इस स्तर को कायम नहीं रखा जा सका।