बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में विवाद बढ़ता ही जा रहा है। परिवार के लोगों में ही जब सब कुछ ठीक न हो तो दफ्तर की बात तो छोड़ ही दीजिए। दिवंगत नेता रामविलास पासवान के बेटे Chirag Paswan को LJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाया गया तो उन्होंने बगावत करने वाले अपने चाचा पशुपति कुमार पारस समेत पांचों सांसदों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है।

पटना स्थित पार्टी कार्यालय में Chirag के समर्थकों ने पांचों सांसदों के पोस्टरों पर कालिख पोत कर गुस्सा निकाला। Chirag ने अब से कुछ देर पहले पशुपति कुमार पारस को मार्च महीने में लिखा 6 पन्नों का खत सार्वजनिक किया है।
Chirag Paswan ट्विटर पर यह खत शेयर करते हुए लिखते हैं, ‘पापा की बनाई इस पार्टी और अपने परिवार को साथ रखने के लिए किए मैंने प्रयास किया लेकिन असफल रहा। पार्टी माँ के समान है और माँ के साथ धोखा नहीं करना चाहिए। लोकतंत्र में जनता सर्वोपरि है। पार्टी में आस्था रखने वाले लोगों का मैं धन्यवाद देता हूँ। एक पुराना पत्र साझा करता हूँ।’

Chirag Paswan ने लिखा कि उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के फैसले पर भी उनके चाचा ने नाराजगी जताई थी। नई जिम्मेदारी मिलने के बाद Chirag ने ‘बिहार फर्स्ट, बिहारी फर्स्ट’ यात्रा निकाली। पशुपति पारस ने इस यात्रा से भी दूरी बनाए रखी। चिराग ने पत्र में लिखा कि चाचा को केंद्र में किसी आयोग में जगह मिल सके, इसके लिए रामविलास पासवान ने कई बार केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बात की थी। 29 मार्च, 2021 को लिखे इस पत्र में Chirag Paswan ने पशुपति कुमार पारस की नाराजगी का जिक्र किया है। चिराग लिखते हैं कि इस पत्र को लिखने से पहले वह अपने चाचा से बात करना चाहते थे लेकिन उनकी ओर से सकारात्मक जवाब नहीं मिला। प्रिंस को प्रदेश अध्यक्ष पद की कमान देने के फैसले का पारस ने विरोध किया और नाराज हो गए।

यह भी पढ़ें: बढ़ सकती है दुनिया की टेंशन, Israel ने तोड़ा संघर्ष विराम

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है