आरबीआई ने पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर लगाया प्रतिबंध

0
426
आरबीआई ने पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर लगाया प्रतिबंध

पीएमसी बैंक का कैश रिजर्व ही कुल 1,000 करोड़ रुपये का है, जबकि कंपनी पर उसका 2,500 करोड़ रुपये का लोन बकाया है।’

ग्राहकों की परेशानियां खत्म नहीं होती की दूसरी परेशानी दस्तक दे देती है। बतादें कि भारतीय रिजर्व बैंक ने पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर प्रतिबंध लगा दिए हैं। इसलिए अब बैंक किसी ग्राहक को नया लोन जारी नहीं कर पाएगा। और वहीं रिजर्व बैंक ने ग्राहकों के लिए भी एक दिन में सिर्फ एक हजार रुपये निकालने की सीमा तय कर दी है। जिसके चलते ग्राहकों की मुसीबते बढ़ती जा रही है। साथ ही आरबीआई ने बैकों पर प्रतिबंध लगाने की कोई वजह भी नहीं बताई है।

श्रीनगर में NSA अजित डोभाल, महबूबा मुफ्ती ने कसा दौरे पर तंज

आरबीआई ने पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर लगाया प्रतिबंध

ये प्रतिबंध 6  महीने तक चलेगा दरअसल रियल एस्टेट फर्म हाउजिंग डिवेलपमेंट ऐंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड पर 2,500 करोड़ रुपये का बकाया लोन है। जिसने अभी तक लोन नहीं चुकाया है, बतादें कि कंपनी अब दिवालिया हो चुकी है। जिसके चलते कंपनी पर बकाये इस लोन को बैंक ने आरबीआई की गाइडलाइंस के बावजूद एनपीए में नहीं डाला था। वह भी तब जबकि कंपनी लोन को चुकाने में लगातार फेल होती रही बतादें कि एनपीए नॉन परफॉर्मिंग एसेट जब बैंक किसी व्यक्ति या कंपनी को लोन देता है तब उस राशी पर न ब्याज प्राप्त हो और न बकाया राशी की क़िस्त प्राप्त हो तो बैंक ऐसे लोन को  गैर निस्पंदकारी संपतियां घोषित कर देता है।

आरबीआई ने पंजाब और महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक पर लगाया प्रतिबंध

पीएमसी बैंक का कैश रिजर्व ही कुल 1,000 करोड़ रुपये का है, जबकि कंपनी पर उसका 2,500 करोड़ रुपये का लोन बकाया है।’ जिससे बैंकों से जब आरबीआई एनपीए के प्रावधान की बात कहता है तो उसका अर्थ होता है कि प्रॉफिट में से एनपीए को खत्म करना। गौरतलब है कि आरबीआई ने इस बैंक के खाते से पैसा निकालने की सीमा भी तय कर दी है। एक अकाउंट होल्डर अपने खाते से एक दिन में 1000 रुपये से ज्यादा नहीं निकाल सकेगा। केंद्रीय बैंक ने पीएमसी बैंक को नया लोन नहीं देने का भी निर्देश दिया है।

एक तरफ इंडिया दूसरी ओर ईरान इमरान बोले- मेरी जगह तुम होते तो हार्ट अटैक आ जाता