पहले Coronavirus का ख़तरा फिर Black Fungus और अब एस्परजिलस फंगस का हमला लोगों की जान लेने पर तुला है। अब Black Fungus के मरीज़ एस्परजिलस फंगस की चपेट में आ रहे हैं। राजधानी लखनऊ में अब तक इस फंगस के 17 मरीज मिल चुके हैं। दो तरह का यह फंगस 30 से 45 साल की युवाओं में ज्यादा मिल रहा रहा। इन दोनों फंगस के लक्षण समान हैं।

इस Fungus की पहचान फंगल कल्चर और साइनस नेजल एंडोस्कोपिक बायोप्सी से होती है। पीजीआई के Black Fungus वार्ड व ईएनटी सर्जन बताते हैं कि Black Fungus के कुछ मरीजों में एस्परजिलस Fungus की पुष्टि हुई है।

एस्परजिलस Fungus पोस्ट कोविड व ब्लैक फंगस के तीन फीसदी मरीजों को चपेट में रहा है। भर्ती होने वाले मरीजों में Fungus के लक्षण कोरोना से मुक्त होने के एक हफ्ते बाद सामने आए हैं। यह अच्छी बात है कि एस्परजिलस ब्लैक फंगस के मुकाबले शरीर को कम नुकसान पहुंचा रहा है। इसका इलाज दवाओं से संभव है। राजधानी में अब तक इस फंगस के 17 मरीज सामने आए हैं। पीजीआई में छह, केजीएमयू में छह, लोहिया में दो व निजी में तीन मरीज मिला है।

जानें इस Fungus के लक्षण

• आंखों में दर्द
• आंखों का लाल होना
• आधे सिर में दर्द होना
• पलक का झुक जाना या सूजन
• आंख का अपनी जगह से बाहर आना
• अचानक आंखों की रोशनी कम होना
• आंखों के अलावा नाक से खून आना
• काली पपड़ी जमना
• मुंह का टेढ़ा होना।

इन मरीज़ों को है ज़्यादा ख़तरा

• डायबिटीज मरीज
• एचआईवी, कैंसर, अस्थमा
• कोरोना बीमारी के दौरान जिन मरीजों में ऑक्सीजन का प्रयोग किया गया।

एस्परजिलस Fungus की पहचान फंगल कल्चर और बायोप्सी से की जाती है। पीजीआई में अब तक 15 मरीजों में इस फंगस की पुष्टि हो चुकी है। यह फंगस कम प्रतिरोधक क्षमता वाले मरीजों में ज्यादा मिला रहा है। पोस्ट कोविड मरीजों में यह Fungus ज्यादा मिला है। पौष्टिक भोजन व संयमित जीवन शैली वाले लोग इस फंगस से बच सकते हैं।

यह भी पढ़ें: आप भी जाना चाहते हैं Amarnath Yatra पर तो जान लें ये बातें

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है