जब जब कोई आपदा आती है तो हमारे जवान देवदूत बनकर राहत बचाव के काम में जुट जाते हैं। Uttarakhand के चमोली में भी जो लोग आपदा के चलते फंसे हुए हैं उनकी जिंदगी से जंग चल रही है और ऐसे में हमारे ये देवदूत लोगों को बचाने में जुटे हुए हैं। तपोवन प्लांट के पास टनल में कई लोग फंसे हुए हैं जिन्हें निकालने के लिए जोरों पर काम चल रहा है। इस हादसे के बाद अभी भी करीब 200 लोग लापता हैं…वहीं करीब दो दर्जन शवों के बरामद होने की खबर आ रही है

आईटीबीपी का रेस्क्यू ऑपरेशन लगातार जारी है..स्निफर डॉग की भी मदद ली जा रही है। वहीं वायुसेना भी लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी हुई है..एमआई और चिनूक हेलिकॉप्टर ने मोर्चा संभाल रखा है…इसके अलावा देहरादून से भी जोशीमठ के लिए जवानों को भेजा गया है। अच्छी खबर ये है कि मौसम विभाग ने फिलहाल मौसम साफ रहने का अनुमान जताया है। जिसकी वजह से राहत बचाव कार्यों में दिक्कतें नहीं आएंगी। दरअसल रैणी गांव के ऊपर ग्लेशियर टूटने की वजह से धौलीगंगा नदी में सैलाब उमड़ आया था। जिसकी वजह से ऋषिगंगा पॉवर प्लांट प्रोजेक्ट पूरी तरह से बर्बाद हो चुका है.पॉवर प्लांट में काम करने वाले मजदूर भी लापता बताए जा रहे हैं। जिनकी तलाश के लिए रेस्क्यू टीमें लगातार काम कर रही हैं

यह भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने बिहार के मुंगेर से Bhagalpur के बीच बनने वाली Road को दी मंजूरी

AB STAR NEWS  के  ऐप को डाउनलोड  कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम  और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है