Baarish बन रही आफत, उफनने लगीं पूर्वांचल की नदियां

0
176

Baarish एक तरफ तो लोगों को राहत देती है वहीं दूसरी तरफ वो लोगों के लिए जानलेवा बन गई है। गोरखपुर और आसपास के जिलों के साथ ही नेपाल में हो रही तेज़ Baarish का असर दिखने लगा है। गोरखपुर में बहने वाली सभी नदियों का जलस्तर तेज़ी से बढ़ रहा है। सरयू नदी बरहज में ख़तरे के निशान के काफी करीब पहुंच गई है। राप्ती-रोहिन और गोर्रा नदी का जलस्तर भी बढ़ाव पर है।

जिला आपदा प्रबंध प्राधिकरण और सिंचाई विभाग के आंकड़े बयां कर रहे हैं कि नदियों का जलस्तर तेज़ी से बढ़ रहा है। बुधवार (14 सितंबर) की सुबह जहां सरयू नदी का जलस्तर बरहज में 65.900 आरएल मीटर था देर शाम तक 66.400 आरएल मीटर पहुंच गया। सरयू नदी बरहज में खतरे के निशान 66.50 आरएल मीटर के काफी करीब पहुंच गई है।

सिंचाई विभाग का मानना है कि सरयू कभी भी यहां खतरे का निशान पार कर सकती है। राप्ती नदी का जलस्तर भी बढ़ाव पर है। सिंचाई विभाग के मुताबिक राप्ती नदी का जलस्तर बुधवार (14 सितंबर) की सुबह बर्डघाट में 71.580 आरएल मीटर था जो देर शाम को 71.670 आरएल मीटर पहुंच गया।

सरयू और राप्ती नदी ही नहीं, गोरखपुर में बहने वाली रोहिन नदी का जलस्तर भी तेज़ी से बढ़ रहा है। बुधवार (14 सितंबर) की सुबह रोहिन नदी का पानी त्रिमुहानी घाट पर 79.280 आरएल मीटर था जो देर शाम तक बढ़कर 79.600 आरएल मीटर पहुंच गया। गोर्रा नदी का पानी पिंडराघाट पर सुबह 67.050 आरएल मीटर था जो देर शाम तक बढ़कर 67.400 आरएल मीटर पहुंच गया है।

कुआनों और आमी नदी का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है। सिंचाई विभाग और जिला आपदा प्रबंध प्राधिकरण का मानना है कि जिस तरह से Baarish हो रही है यदि अनवरत जारी रही तो सरयू नदी बरहज में कभी भी खतरे के निशान को पार कर सकती है। राप्ती-रोहिन और गोर्रा नदी भी उफन सकती है।

यह भी पढ़ें – BJP बना रही Delhi को कूड़े के पहाड़ का शहर :CM Kejriwal

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है