आज देश भर में मनाई जा रही है ‘विवाह पंचमी’

ज़माना बदल चुका है, लोगों का लाइफस्टाइल भी बदल चुका है लेकिन एक चीज़ आज भी नहीं बदली वो है मनचाहा जीवनसाथी पाने की इच्छा। हज़ारों लोगों के बीच भी अगर आपको तलाश है उस इंसान की जो जीवनभर आपका साथ निभा सके तो विवाह पंचमी के दिन व्रत और पूजा ज़रूर करें।

आज देश भर में विवाह पंचमी मनाई जा रही है। हिंदू पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को भगवान राम और माता सीता के विवाह का उत्सव हर साल मनाया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, विवाह पंचमी को श्रीराम पंचमी या विहार पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन नागदेवता की पूजा अर्चना का विधान है।

कुंडली के दोष से परेशान हैं और सच्चा जीवन साथी तलाश करते करते थक चुके हैं तो जान लें कि विवाह पंचमी के दिन ही भगवान राम और माता सीता का विवाह संपन्न हुआ था। इस दिन पूजा करने से जातक की कुंडली का दोष भी मिट जाता है। यह भी मान्यता है कि विवाह पंचमी के दिन जो जातक व्रत और पूजा करते हैं उन्हें मनचाहे जीवनसाथी की प्राप्ति होती है।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है