मोसाद से बचना मुश्किल ही नहीं नामुंमकिन !

मोसाद, जिसे दुनिया इज़रायल की किलिंग मशीन के तौर पर जानती है। मोसाद एजेंट्स इज़रायल के दुश्मनों को पूरी दुनिया में खोज कर उसे उसके अंजाम तक पहुंचाते हैंवो भी खतरनाक तरीके से। मोसाद का मकसद शिकार को सिर्फ मारना ही नहीं होता, बल्कि वे ऐसी मौत मारते हैं जो दुश्मनों में खौफ पैदा करता है। मोसाद एजेंट्स की ट्रेनिंग बेहद सख्त होती है। जिसमें छोटे हथियारों से लेकर हैण्ड -2- हैण्ड कॉम्बैक्ट सबसे अहम है।

आधुनिक हथियारों के मामले में भी सबसे उपर देश इज़रायल के इन किलर मशीन्स के कमाण्डोज  को

Dror light machine gun, IWI Negev light machine gun, Uzi submachine gun ,Uzi pistol,Desert Eagle pistol ,Hezi SM-1 semi-automatic PDW जैसे हथियारों को चलाने में महारथ हासिल होती है। यही नहीं मामूली सामानों से बम बना लेना मोसाद एजेंट्स के लिए बाएं हाथ का काम है। मोसाद के खतरनाक एजेंट्स एक चाकू के सहारे भी पलक झपकते ही अपने दुश्मन को मौत के घाट उतार देते हैं।

 मोसाद को जिस सबसे बड़ी खूबी के लिए जाना जाता है वो हैं कोवर्ट ऑपरेशन्स। इस काम में मोसाद को महारत हासिल है। दुश्मन को चकमा देने से लेकर मारकर गायब हो जाने वाली ‘किल एंड फ्ली’तकनीक में,  मोसाद एजेंट्स सबमें एक्सपर्ट माने जाते हैं। विश्व में इज़रायल ही एक मात्र ऐसा देश है। जिसके सैनिकों और एजेंट्स को जरुरी और निर्णायक कदम उठाने के लिए किसी वरिष्ठ का आदेश लेने की जरूरत नहीं होती।  चारों ओर से अपने दुश्मनों से घिरे इजरायल की एजेंसी को बड़ा क्रूर बनना पड़ता है। मोसाद में खतरनाक महिला एजेंट्स भी हैं जो बला की खूबसूरत होने के साथ साथ बेहद खतरनाक भी होती हैं।

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है