आख़िर किसकी है ‘Gyanvapi Masjid’, वाराणसी कोर्ट ने सुनाया ये फैसला

0
170

भारत देश में धार्मिक स्थलों को लेकर हमेशा से ही गरमा गर्मी का माहौल पैदा हो जाता है। ऐसे में फैसला करना होता है अदालत को। एक बार फिर से मंदिर मस्जिद को लेकर माहौल गर्म देखने को मिल रहा है। ‘Gyanvapi Masjid’ किसकी है? इस सवाल का जवाब तय करने के लिए कोर्ट में Gyanvapi-श्रृंगार गौरी केस पर सुनवाई का रास्‍ता कम से कम वाराणसी जिला अदालत से आज तय हो गया।

जिला जज डॉ.अजय कृष्‍ण विश्‍वेश की अदालत ने दायर वाद की सुनवाई के हक में अपना फैसला सुनाया। हालांकि अभी भी इस मामले में हाईकोर्ट और सु्प्रीम कोर्ट में अपील की जा सकती है। प्रतिवादी अंजुमन इंतजामिया मसाजिद पक्ष के अधिवक्‍ता विकल्‍पों पर विचार कर रहे हैं। इस दौरान मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए वाराणसी के पुलिस कमिश्‍नर ने कल यानी 11 सितम्‍बर की शाम से ही पूरे वाराणसी में धारा-144 लागू कर दी थी। सोमवार को सुबह से ही वाराणसी के चप्‍पे-चप्‍पे पर फोर्स तैनात है।

पिछली सुनवाई पर दोनों पक्ष की बहस पूरी होने के बाद अदालत ने सुनवाई के लिए 12 सितंबर की तिथि तय की थी। पिछले साल सिविल जज (सीनियर डिविजन) की कोर्ट में शृंगार गौरी के दर्शन-पूजन और सौंपने सम्बंधी मांग को लेकर वादी राखी सिंह सहित पांच महिलाओं ने गुहार लगाई थी। प्रतिवादी अंजुमन इंतजामिया मसाजिद ने प्रार्थनापत्र देकर वाद की पोषणीयता पर सवाल उठाया था। बता दें कि अदालत ने प्रतिवादी की अर्जी दरकिनार करते हुए सुनवाई की और Gyanvapi परिसर का सर्वे कराकर रिपोर्ट तलब कर ली। इसी दौरान अंजुमन ने Supreme Court में विशेष अनुमति याचिका दायर की। Supreme Court के निर्देश पर जिला जज की अदालत में 26 मई से सुनवाई शुरू हुई।

यह भी पढ़ें – Delhi Water Crisis: भर के रख लें पानी, मंगलवार से बुधवार तक इन इलाकों में नहीं आएगा पानी

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है