कोरोना वैक्सीन का जायजा लेने पहुंचे 64 मिशन प्रमुख, हैदराबाद ने रचा इतिहास

0
541
foreign_delegates

हैदराबाद: 64 मिशन प्रमुख आज हैदराबाद में भारत बायोटेक और बायोलाजिकल ई कंपनियों के दौरे पर पहुंचे हैं।इसका आयोजन विदेश मंत्रालय ने किया है। 6 दिसंबर को मंत्रालय ने इस बाबत घोषणा की थी।इस तरह और दौरे आयोजित किए जाएंगे ताकि विभिन्न देशों के राजनयिक कोरोना वायरस की भारत में विकसित और निर्मित की जा रही वैक्सीन के बारे में सीधी जानकारी हासिल कर सके।

सूत्रों ने कहा कि उन्हें अन्य शहरों में भी ले जाया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत कोविड-19 महामारी से निपटने में वैश्विक प्रयासों में अहम योगदान दे रहा है। सरकारी सूत्रों ने कहा, “भारत के टीका विकास के प्रयास में काफी रुचि ली जा रही है। अलग-अलग देशों के 64 प्रतिनिधि हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक कंपनी और बायोलॉजिकल ई लिमिटेड कैंपस का दौरा करेंगे। आपको बता दें कि इस दौरे के साथ ही हैदराबाद ने एक और इतिहास अपने नाम किया है, वो है 64 विदेश प्रमुख का एक साथ हैदराबाद की धरती पर आना।

विश्व में अब तक इस महामारी के 6.8 करोड़ मामलों की पुष्टि हुई है और कम से कम 190 देशों में अब तक 15 लाख से ज्यादा लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। कोविड-19 से निपटने के लिए कई टीकों पर काम चल रहा है लेकिन ध्यान उनके उत्पादन पर है। भारत पहले ही घोषणा कर चुका है कि उसके टीके के उत्पादन और वितरण क्षमता का उपयोग कोविड-19 महामारी से लड़ने में मानवता की मदद करने के लिए किया जाएगा और वह अन्य देशों की प्रशीतन श्रृंखला तथा भंडारण क्षमता को बढ़ाने में मदद करेगा।

गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत की वैक्सीन उत्पादन और वितरण क्षमता का उपयोग इस संकट से लड़ने में और पूरी मानवता की मदद करने के लिए किया जाएगा। हम कोविड-19 महामारी के खिलाफ वैश्विक प्रयासों में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं। भारत की वैक्सीन के विकास के प्रयासों में बहुत रुचि है. भारत दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता है।