चोरी नहीं इबादत करना है गुनाह, Taj Mahal में नमाज़ पढ़ने वाले 4 पर्यटक गिरफ़्तार

0
222

हमारा देश काफी तरक्की कर रहा है। आज भी चोरी करने के बाद चोर आज़ाद घूमते हैं उन्हें पकड़ना पुलिस के बस की बात नहीं होती। कुछ चोर कभी कभी गलती से पकड़ में आजाते हैं। यही वजह है चोरों के हौसले काफी बुंलद भी हैं। न जाने एक दिन में कितने घर लूटते हैं और न जाने कितनी ही गाड़ियां चोरी हो जाती हैं बावजूद इसके पुलिस को कोई फ़र्क नहीं पड़ता लेकिन ऐसा नहीं है कि पुलिस हर काम में सुस्त है कुछ काम में पुलिस काफी चुस्त भी है। कहीं कोई इंसान अपने भगवान या अल्लाह को याद कर रहा हो तो पुलिस एक दम सतर्क हो जाती है। मुस्लिम धर्म में नमाज़ का एक वक़्त तय किया गया है। उस वक़्त पर नमाज़ अदा नहीं की तो नामज़ कज़ा(देरी से पढ़ी गई) मानी जाती है। नमाज़ पढ़ने में मुश्किल से 5 या 10 मिनट से भी कम वक़्त लगता है। कई बार तो नमाज़ का वक़्त होने पर राह चलता इंसान सड़क के किनारे भी नमाज़ अदा कर लेता है लेकिन अब नमाज़ पढ़ने पर आपको जेल भी जाना पड़ सकता है।

Taj Mahal परिसर स्थित मस्जिद में सिर्फ शुक्रवार को नमाज़ पढ़ने की अनुमति है। बुधवार(25 मई) को CISF ने चार युवकों को Taj Mahal मस्जिद में नमाज़ पढ़ते समय पकड़ लिया। चारों को ताजगंज पुलिस के सुपुर्द किया गया है। चारों पर्यटक हैं। तीन हैदराबाद और एक आजमगढ़ का निवासी है।

जानें, पूरा मामला

ये घटना शाम करीब पौने सात बजे की है। शुक्रवार को Taj Mahal में सिर्फ स्थानीय लोगों को आईडी दिखाने के बाद नमाज़ के लिए प्रवेश दिया जाता है। शुक्रवार के अलावा Taj Mahal मस्जिद में नमाज़ नहीं पढ़ी जाती। इंस्पेक्टर Taj Mahal भूपेंद्र बालियान ने बताया कि चारों युवक पुलिस हिरासत में है। चारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके कानूनी कार्रवाई की जा रही है। पकड़े गए युवकों का कहना है कि उन्हें इस नियम की जानकारी नहीं थी। Taj Mahal घूमने आए थे। जानकारी होती तो वे ऐसा नहीं करते।

पुलिस का कहना है कि Taj Mahal की आंतरिक सुरक्षा CISF के पास है। CISF ने युवकों को पकड़ा है। उन्होंने धर्मस्थल पर ऐसा काम किया है जिससे माहौल खराब हो सकता था। दूसरे लोग इसी बात का मुद्दा बना सकते हैं। इसलिए मुकदमा लिखकर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। युवकों के परिजनों को कानूनी कार्रवाई की जानकारी दी जाएगी। ताकि वे उनकी जमानत ले सकें। पुलिस पकड़े गए युवकों के प्रमाणपत्रों का भी सत्यापन करा रही है। वे कहां ठहरे थे। कब आए थे। इसकी भी तस्दीक कराई जा रही है।

यह भी पढ़ें – मोटरसाइकिल, स्कूटर चलाने वालों की आफत, मानना पड़ेगा नया Traffic नियम

ABSTARNEWS के ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो कर सकते है