Nirbhaya के दोषी मुकेश की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने दोषियों के डेथ वारंट पर स्टे Stay लगा दिया है।

Nirbhaya के दोषियों को 22 जनवरी को फांसी दी जानी थी। लेकिन दोषियों द्वारा लगातार दायर की जा रही याचिकाओं के चलते अब दोषियों को 22 जनवरी को फांसी नहीं दी जाएगी। पटियाला हाउस कोर्ट में निर्भया के दोषी मुकेश की याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने दोषियों के डेथ वारंट पर स्टे लगा दिया है। ऐसे में अब 22 जनवरी को निर्भया के दोषियों को फांसी नहीं दी जाएगी। जिसको लेकर कोर्ट ने जेल प्रशासन से इस संबंध में सारी रिपोर्ट मांगी है। इसके बाद तिहाड़ जेल प्रशासन ने दिल्ली सरकार से फांसी की नई तारिख मांगी है। साथ ही उन्होंने सरकार से कहा है कि जब तक दोषियों की दया याचिका पर फैसला नहीं आता तब तक उनकी फांसी की तारिख को टाल दिया जाए।

Nirbhaya Case :फांसी से पहले दोषी विनय ने लिया क्यूरेटिव पिटीशन का सहारा

NirbhayaCase :निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी को नहीं अब होगी फांसी

पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया केस के चारों दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी कर दिया था। जिसके मुताबिक चारों दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी दी जानी है। लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट में दोषी मुकेश की सुनवाई के दौरान मुकेश के वकील ने कहा कि उसकी दया याचिका राष्ट्रपति के पास है। जिस पर अब तक कोई फैसला नहीं हुआ है। ऐसे में मुकेश के डेथ वारंट को रद्द किया जाना चाहिए। सुनवाई के दौरान दिल्ली एएसजी और दिल्ली सरकार के वकील ने भी कहा कि दोषियों को तय तारिख को फांसी नहीं दी जा सकती। अगर अब राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका पर कोई फैसला लिया जाता है। तो ऐसे में राष्ट्रपति के फैसला देने के बाद दोषियों को 14 दिन का समय देना होगा। जिसके चलते अब निर्भया के दोषियों को 22 जनवरी को फांसी नहीं हो सकती।

उधर सुप्रीम कोर्टे ने सुनाया फैसला, इधर निर्भया की मां ने कही ये बड़ी बात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here