RBI (आरबीआई) ने (PMC) पर 6 महीने की पाबंदी लगाई थी। तो वहीं अब एक और Bank (बैंक) पर पाबंदी की तलवार चलाई है।

Reserve Bank of India (भारतीय रिजर्व बैंक), बैंकिंग सिस्टम को बेहतर बनाने के लिए लगातार कड़े कदम उठा रहा है। जहां, अभी पिछले साल केंद्रीय बैंक ने Punjab And Maharashtra Co Operative Bank (पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक) पीएमसी (PMC) पर 6 महीने की पाबंदी लगाई थी। तो वहीं अब RBI (आरबीआई) ने एक और Bank (बैंक) पर पाबंदी की तलवार चलाई है।

Image result for pmc bank

दरअसल, RBI (आरबीआई) ने लेनदेन में आ रही कथित कमियों को लेकर बेंगलुरु में मौजूद Sri Guru Raghavendra Co-operative Bank (श्री गुरु राघवेंद्र सहकारी बैंक) पर तत्काल प्रभाव से बैन लगा दिया है। 1999 में स्थापना हुए इस Bank (बैंक) को Karnataka (कर्नाटक) में अग्रणी सहकारी बैंक के तौर पर जाना जाता है। Karnataka (कर्नाटक) में इस बैंक के 6 ब्रांच हैं । बैंक की वेबसाइट के की माने तो कुल नेटवर्थ 100 करोड़ से अधिक है।

Image result for Sri Guru Raghavendra Co-operative Bank

बता दें, RBI (आरबीआई) की बैन के बाद अब ग्राहक खाते से सिर्फ 35 हजार रुपये ही निकाल सकेंगे। ये बैंक अगले छह महीने तक रिजर्व बैंक की आज्ञा के बिना कोई नया लोन नहीं दे सकता है। यानी कर्जधारकों को नया कर्ज नहीं मिल सकता। इसके साथ ही इस बैंक में नए निवेशों की इजाजत पर भी 6 महीने तक के लिए रोक लगा दी गई है। हालांकि अभी ये नहीं कहा गया है कि बैंक का Licence (लाइसेंस) रद्द किया जाएगा। केवल बैंक पर प्रतिबंध लगाया गया है।

गौरतलब हो, RBI (आरबीआई) ने ये एक्शन बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट 1949 की धारा 35 के तहत लिया है। इस धारा के तहत RBI (आरबीआई) को ये अधिकार है कि वो किसी भी बैंक के खिलाफ मिल रही कमियों और शिकायत पर ऐसी कार्रवाई कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here