भारत के संविधान में 465 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियां हैं। इसे 22 भागों में बांटा गया है।

26 नवम्बर यानी आज के दिन देश भर में संविधान दिवस मनाया जाता है। दुनिया के तमाम संविधानों को बारीकी से देखने और समझने के बाद ही डॉ. भीमराव अंबेडकर ने भारतीय संविधान का निर्माण किया था। आज ही के दिन 1949 में इसे भारतीय संविधान सभा में पेश किया था और साथ ही संविधान सभा द्वारा इस संविधान को सबकी मंजूरी भी मिली थी। इसी कारण से कि हर साल भारत में 26 नवम्बर को ही संविधान दिवस मनाया जाता है। भारत को इस संविधान को अपनाए आज 70 साल हो चुके हैं।

अद्भूत है ये भक्ति,राम नाम से पटी ईंट की भट्टी 

Image result for constitution day 2019 in hindi

संविधान की 70वीं सालगिरह के चलते आज देश भर में कई कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा। स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी में भी कार्यक्रम होंगे, जहां छात्र संविधान दिवस पर अपने विचार पेश कर सकते हैं।

क्या है संविधान दिवस का इतिहास

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि, सभी को समझना होगा कि संविधान क्या है और इसे किसने लिखा है, इसे किस तरह से लिखा गया है। संविधान को बनाने के लिए कई लोग एकजुट भी हुए थे।

अलगाववादी नेताओं को रिहा करने की तैयारी में है सरकार, जानिए कश्मीर का हाल…

संविधान की वो बातें जो हर भारतीय को पता होनी चाहिएभारत का संविधान विश्व का सबसे लंबा संविधान है, भारत के संविधान में 465 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियां हैं। इसे 22 भागों में बांटा गया है। संविधान में साफ शब्दों में लिखा गया है कि देश में कोई अधिकारिक धर्म नहीं होंगे और भारत का संविधान किसी भी धर्म को बढ़ावा नहीं देता है और न ही किसी के साथ भेदभाव करता है।

संविधान का महत्व

एक राष्ट्र, समाज या समुदाय के जीवन में संविधान का क्या महत्व हो सकता है। संविधान इंसान को सरलता और संयुक्त तरीके से रहने में मदद करता है। संविधान सभा ने लगभग 2 साल, 11 महीने, 18 दिन में 114 दिन बैठकों के बाद संविधान तैयार किया था। संविधान इंसान को उसका हक और उसका महत्व बताता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here