इंतजार की घड़ी अब खत्म हो गई है और सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर 2018 को लिये गये अपने फैसले को वैसा ही रखा है और कोई बदलाव नहीं किया है।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक और अहम मुद्दे सबरीमाला मामले पर फैसला दे दिया गया है। आयोध्या पर फैसले के बाद सबकी नजरें सबरीमाला मामले पर टिकी हुई थी कि आखिर महिलाओं के प्रवेश को लेकर कोर्ट क्या फैसला सुनाता है।

सबरीमाला मंदिर के खुलेंगे सबके लिए द्वार

इंतजार की घड़ी अब खत्म हो गई है और सुप्रीम कोर्ट ने 28 सितंबर 2018 को लिये गये अपने फैसले को वैसा ही रखा है और कोई बदलाव नहीं किया है। बता दें कि सबरीमाला मंदिर में  विरोध की गुंज तेज होने के बावजूद 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने फैसला देकर महिलाओं को प्रवेश कर पूजा करने की इजाजत दे दी थी। वहीं इस मामले पर सीपीएम राज्य सचिवालय ने केरल सरकार को महिलाओं का मंदिर में प्रवेश के मामले पर ज्यादा जोर ना देने का मशवरा दिया है।

सबरीमाला मंदिर के खुलेंगे सबके लिए द्वार

मिली जानकारी के मुताबिक राज्य सचिवालय ने केरल में शांति बनाए रखने के लिए केरल सरकार को ऐसा मशवरा दिया है। सूत्रों के अनुसार सबरीमाला मंदिर 17 नवंबर रविवार से 2 महीने के लिए भक्तों के लिए खुलने जा रहा है। वहीं खबर है कि सबरीमाला मंदिर में प्रवेश को लेकर राज्य सरकार मंदिर की ओर जाने वाली किसी भी महिला को सुरक्षा प्रदान नहीं करेगी और जो महिलाएं सुरक्षा चाहती हैं उन्हें सुप्रीम कोर्ट का आदेश लेकर आना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here