दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी यानि जेएनयू के छात्र अपनी मांगों को लेकर धरना प्रर्दशन कर रहे हैं।

दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी यानि जेएनयू में आज तीसरे दिन दीक्षांत समारोह का आयोजन किया जा रहा है। तो दूसरी ओर जेएनयू के छात्र अपनी मांगों को लेकर धरना प्रर्दशन कर रहे हैं। छात्र हॉस्टल फीस बढ़ोतरी और ड्रेस कोड के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। छात्र, वाइस चांसलर के खिलाफ जेएनयू कैंपस के बाहर उग्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

चक्रवाती तूफान ‘बुलबुल’ पड़ा कमजोर, पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश में लाखों लोग हुए प्रभावित

जेएनयू कैंपस में हॉस्टल फीस बढ़ोतरी और ड्रेस कोड के खिलाफ प्रदर्शन

आपको बता दें, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल दीक्षांत समारोह में पहुंचे। दरअसल, जेएनयू यूनिवर्सिटी ने 23 अक्टूबर से कैंपस के गेट बंद करने का नया नियम लागू किया। जेएनयू के छात्रों का कहना है कि जब उनकी फीस में कटौती की मांग को स्वीकार नहीं किया जा रहा तो उन्हें दीक्षांत समारोह मंजूर नहीं है।

पारस छाबड़ा की गर्लफ्रेंड ने खोले सिद्धार्थ शुक्ला से दुश्मनी के पीछ का राज

जेएनयू कैंपस में हॉस्टल फीस बढ़ोतरी और ड्रेस कोड के खिलाफ प्रदर्शन

हॉस्टल फीस बढ़ोतरी का मामला यूनिवर्सिटी में काफी आगे बढ़ चुका है और इसका कोई हल नहीं निकला जा रहा है। इन्ही मांगों को लेकर छात्रों ने दीक्षांत समारोह में जाने से इंकार कर दिया। और छात्र संघ ने सभी से मार्च में जुड़ने की अपील की तो वहीं छात्रों ने कहा कि जब छात्रों को सस्ती शिक्षा नहीं मिल रही तो दीक्षांत समारोह की क्या जरूरत है। ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन ने प्रशासन पर कैंपस के गेट शाम छह बजे के बाद बंद करने के नए नियम पर विरोध जताया। AISA ने कहा कि कैंपस के गेटों को शाम छह बजे बंद कर देना आवाजाही की स्वतंत्रता को सीमित करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here