K-4 न्यूक्लियर मिसाइल टेस्ट पानी के अंदर बने प्लेटफॉर्म से किया जाएगा।

भारत जल्द ही एक और मिसाइल का परीक्षण करने वाला है। और यह परीक्षण डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम तट पर 8 नवंबर को करने वाला है। इस परीक्षण के दौरान डीआरडीओ मिसाइल प्रणाली में उन्नत प्रणालियों का टेस्ट करेगा। बता दे कि K-4 न्यूक्लियर मिसाइल टेस्ट पानी के अंदर बने प्लेटफॉर्म से किया जाएगा। हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि डीआरडीओ पूरी रेज पर मिसाइल का परीक्षण करेगा या कम दूरी पर।

TikTok ने लॉन्च किया अपना पहला तहलका मचा देने वाला फोन, जानिए इसके एक से बढ़कर एक फीचर्स

Image result for k 4 missile

इस की खासियत यह हैं कि ये मिसाइल 3500 किलोमीटर दूर बैठे दुश्मन पर भी निशाना साध सकती है। यह देश की दूसरी अंडरवॉटर मिसाइल है। इससे पहले 700 किलोमीटर मारक-क्षमता वाली B0-5 मिसाइल बनाई गई थी।

Jio users के लिए बड़ी खुशखबरी, अब हुआ यह ऐलान!

Image result for B0-5 मिसाइल

सूत्रों के मुताबिक, यह मिसाइल प्रणाली रक्षा एवं अनुसंधान विकास संस्थान (डीआरडीओ) द्वारा अरिहंत श्रेणी की परमाणु परनडुब्बियों के लिए विकसित किया जा रहा है। बता दे कि K-4 का परीक्षण पिछले ही महीने करना था, लेकिन किसी कारणवश इसे टाल दिया गया था। मिली जानकारी के मुताबिक डीआरडीओ आने वाले कुछ हफ्तों में कुछ और मिसाइलों का भी परीक्षण करने जा रहा है। भारत, अग्नि-3 और ब्रह्मोस मिसाइलों के परीक्षण की योजना बना रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here