भाई दूज के दिन अगर भाई-बहन यमुना किनारे बैठकर साथ में भोजन करें तो यह अत्यंहत मंगलकारी और कल्याणकारी होता है।

भैया दूज के मौके पर जानिए क्या हैं भाई को टी

कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितिया को भाई दूज का त्यौहार मनाया जाता है। ये त्यौहार इस साल 29 अक्टूबर को यानी कल मनाया जायेगा। इस दिन बहनें अपने भाईयों के हाथ पर कलावा बांधती है और माथे पर तिलक लगाकर यम देवता से उनकी लंबी आयु की कामना करती हैं। दिवाली के दो दिन बाद आने वाले इस त्यौहार का खास महत्व माना जाता है। मान्यता है कि भाई दूज के दिन अगर भाई-बहन यमुना किनारे बैठकर साथ में भोजन करें तो यह अत्यंहत मंगलकारी और कल्याणकारी होता है।

भैया दूज का विषेश महत्व 

Related image

हिन्दू धर्म में भैया दूज का विशेष महत्व है। इस त्यौहार को ‘यम द्वितीया’ और ‘भ्रातृ द्वितीया’ भी कहा जाता है। रक्षाबंधन के बाद भैया दूज दूसरा ऐसा त्यौहार है जिसे भाई-बहन बेहद उल्लास के साथ मनाते हैं। जहां, रक्षाबंधन में भाई अपनी बहन को सदैव उसकी रक्षा करने का वचन देते हैं वहीं भाई दूज के मौके पर बहन अपने भाई की लंबी आयु के लिए प्रार्थना करती है।

भाई दूज का शुभ मुहूर्त

Related image

भाई दूज मंगलवार, अक्टूबर 29 को हैं।

द्वितीया तिथि प्रारंभ: 29 अक्टूोबर 2019 को सुबह 06 बजकर 13 मिनट से

द्वितीया तिथि समाप्त: 30 अक्टू0बर 2019 को सुबह 03 बजकर 48 मिनट तक

भाई दूज का शुभ मुहूर्त: दोपहर 01 बजकर 11 मिनट से दोपहर 03 बजकर 23 मिनट तक

अवधि : 02 घण्टे 14 मिनट्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here