करवा चौथ के दिन महिलाएं छलनी से चांद और पति को देखकर व्रत को पूरा करती है

करवा चौथ का व्रत महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं। इस दिन महिलाएं चंद्रमा की पूजा करके छलनी से चांद को देखकर और पति के हाथ से पानी पीकर व्रत को पूरा करती है। बतादें कि पत्नी अपने वैवाहिक जीवन में सुख और शांति की कामना करने के लिए करवाचौथ का व्रत रखती है।

करवा चौथ का व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन मूल रूप से भगवान गणेश, मां गौरी और चंद्रमा की पूजा होती है। चंद्रमा की पूजा इसलिए की जाती है क्योंकि चंद्रमा को आयु, सुख और शांति का कारक माना जाता है इसलिए चंद्रमा की पूजा करके महिलाएं वैवाहिक जीवन में सुख, शांति और पति की लम्बी आयु की कामना करती हैं। बात करें व्रत में प्रयोग होने वाली छलनी की तो छलनी बेहद महत्व रखती है।

Image result for करवा चौथ

करवा चौथ के व्रत में महिलाएं अपना व्रत पति को इसी छलनी से देखकर पूरा करती हैं। शादी-शुदा महिलाएं इस छलनी में पहले दीपक रख चांद को देखती हैं और फिर अपने पति को देखती हैं। बता दें कि हिंदू मान्यताओं के मुताबिक चंद्रमा को भगवान ब्रह्मा का रूप माना जाता है और चांद को लंबी आयु का वरदान मिला हुआ है। चांद में सुंदरता, शीतलता, प्रेम, प्रसिद्धि और लंबी आयु जैसे गुण पाए जाते हैं। यही कारण है कि महिलाएं चांद को देखकर व्रत पूरा करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here