यूपी के बलिया में बाढ़ का धीरे-धीरे तो कम हो गया। यहां महामारी फैलने का खतरा काफी बढ़ गया है।

यूपी के बलिया में बाढ़ का धीरे-धीरे तो कम हो गया। लेकिन यहां लोगों के सामने एक नई समस्या पैदा हो गई है। यहां महामारी फैलने का खतरा काफी बढ़ गया है। बीमारियों ने अपने पैर पसारना शुरू कर दिए हैं। सड़कों पर पानी जमा हो चुका है। जो पेयजल के स्रोतों में मिलकर लोगों को बीमार करने का काम कर रहा है। अब तक सौ से अधिक लोग यहां गंदा पानी पीने की वजह से बीमार हो चुके हैं।

इस अस्पताल में इलाज करने वाले डॉक्टर हैं गायब, मरीज घंटों करते हैं इंतजार

Image result for dirty water india

बलिया के रसड़ा तहसील क्षेत्र के नगपुरा गांव में लोग संचारी रोग से पीड़ित हैं। अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। इन लोगों को पहले तो बाढ़ ने रूलाया और अब बीमारियों ने अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया। बलिया के रसड़ा तहसील क्षेत्र के नगपुरा गांव में बाढ की वजह से जल जमाव की स्थिति है। यहां पानी सड़ रहा है। काला हो चुका है। और अब उस पानी में बीमारियां पल रही हैं। वहीं गंदा पानी पेयजल के स्रोतों में भी मिल गया है। इसी पानी को पीकर लोग बीमारियों की चपेट में आना शुरू हो गए हैं। गांव के लगभग सौ से अधिक लोग बीमार हो गए जबकि एक बच्ची की मौत हो गई। बीमार लोगों में ज्यादातर बच्चे और महिलाएं हैं। जिनको जिला जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ग्रामीणों का कहना है कि जल निगम की पाइप फटने की वजह से बारिस का गंदा पानी उनके घरों में सप्लाई हो गया। जिसको पीने के बाद लोग बीमार हो गए।

Image result for dirty water india

पहले तो इन लोगों ने बाढ़ की मार झेली और अब इन्हें बीमारियां रूला रही हैं। बाढ़ की दोहरी मार झेल रहे ये लोग प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे हैं। बाढ़ के वक्त तो प्रशासन ने बचाव कार्य किए लेकिन अब महामारी फैलने के खतरे को रोकना प्रशासन के लिए अग्निपरिक्षा है। जिला प्रशासन का कहना है कि गांव में मेडिकल की दो टीमें लगा दी गई हैं।

संदिग्ध परिस्थितियों में फांसी के फंदे पर लटका मिला विवाहिता का शव

इस मामले में मुख्य चिकित्साधिकारी का कहना है कि बाढ़ और बारिस के बाद संचारी रोग के फैलने का डर रहता है और ये लोग उसी से पीड़ित हैं। गांव में मेडिकल की टीम लगा दी गई है। वही अपर मुख्य चिकित्साधिकारी का कहना है कि 85 लोग डायरिया जैसी बीमारी से ग्रसित है। जिनका इलाज किया जा रहा है।

बलिया में सौ से अधिक लोग बीमार हो गए और अभी तक एक बच्ची की मौत हो गई। लेकिन यहां सवाल ये उठता है कि इन सबका जिम्मेदार कौन है? क्यों प्रशासन ने समय रहते बाढ़ के पानी को निकालने का काम किया? सवाल कई हैं लेकिन शायद जवाब कोई नहीं?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here