मैरीकॉम ने क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया की इंग्रीट वालेंसिया को 5-0 से करारी शिकस्त दी।

अपने मुक्के से अच्छे अच्छों को पानी पीलाने वाली मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम महिला विश्व चैम्पियनशिप के इतिहास में सबसे सफल मुक्केबाज बन गई हैं। 36 साल की मैरीकॉम ने इतिहास रचते हुए सेमीफाइनल में पहुंचकर आठवां पदक पक्का कर लिया है। उन्होंने उलान उदे (रूस) में जारी विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के 51 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में जगह बनाते ही बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली।

अपराध की दुनिया से निकल कर शानदार क्रिकेटर बना था ये खिलाड़ी…

मैरीकॉम ने क्वार्टर फाइनल में कोलंबिया की इंग्रीट वालेंसिया को 5-0 से करारी शिकस्त दी। इस मेडल को जीतने के साथ ही मैरी ने विश्व चैंपियनशिप में अपने पदक की संख्या आठ कर ली। ऐसा करने वाली मैरी दुनिया की पहली महिला मुक्केबाज बन गई हैं। इस जीत के साथ मैरीकॉम ने टूर्नामेंट की सफलतम मुक्केबाज होने का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया।

जानिये, क्यों हार्दिक पांड्या से मिलने लंदन पहुंची नीता अंबानी, सामने आई बड़ी वजह…

Image result for mary kom

मैरीकॉम के नाम महिला विश्व चैम्पियनशिप में सर्वाधिक 6 स्वर्ण और एक रजत पदक जीतने का रिकॉर्ड है। अगर हम यहां पुरुष और महिला दोनों विश्व चैम्पियनशिप की बात करें। तो मेरीकॉम ने सर्वाधिक पदक अपने नाम कर लिया है। उन्होंने 8वां पदक पक्का कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया है। यानी महिला या पुरुषों दोनों वर्गों में सर्वाधिक विश्व चैम्पियनशिप पदक अब मेरीकॉम के नाम है। उन्होंने पुरुष मुक्केबाज क्यूबा के फेलिक्स सेवॉन को पीछे छोड़ते हुए ये कारनाम कर दिखाया है। जिनके नाम विश्व चैम्पियनशिप में 7 पदक थे। वहीं आयरिश मुक्केबाज केटी टेलर के नाम 6 पदक हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here