10 अक्टूबर से पर्यटकों से जुड़ी एडवाइजरी को हटा दिया जाएगा। पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों ने इस कदम का स्वागत किया है और उम्मीद जताई है

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में एक उच्च-स्तरीय सुरक्षा समीक्षा बैठक 7 अक्टूबर को आयोजित की गई थी। जिसमें यह निर्णय लिया गया कि 10 अक्टूबर से पर्यटकों से जुड़ी एडवाइजरी को हटा दिया जाएगा। पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों ने इस कदम का स्वागत किया है और उम्मीद जताई है कि इस घोषणा के बाद और अधिक पर्यटक घाटी में आएंगे। तो वही जम्मू-कश्मीर में पर्यटकों की आवाजाही पर पिछले दो महीने से जारी प्रतिबंध हटा लिया गया है।

Image result for kashmir tourism hd images

जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर से एक सूचना जारी की गई है कि अब पर्यटकों को हर जरूरी मदद मुहैया कराई जाएगी। दरअसल मिल रही जानकारी के मुताबिक अभी कई जगहों पर इंटरनेट सेवाएं शुरु नहीं की गई है। तो वहीं जम्मू कश्मीर के गृह विभाग ने इस संबंध में एक सुरक्षा एडवाइजरी भी जारी की है जिसमें ये बताया गया है, ‘पर्यटकों के आने पर बीती 2 अगस्त से लगी रोक अब हटा ली गई है। दरअसल जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के अधिकतर प्रावधान हटाए जाने के 66 दिन बीतने के बाद आज से पर्यटक घाटी की सैर कर सकेंगे। और जम्मू-कश्मीर सरकार ने अनुच्छेद 370 हटाने के पहले पर्यटकों को कश्मीर छोड़ने की एडवाइडरी वापस ले ली है।

Related image

एडवाइजरी वापस लेने के साथ ही राज्य सरकार ने सैलानियों को सभी जरूरी सहायता देने का ऐलान किया है। आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 के तहत अस्थायी तौर पर मिले विशेष दर्जे को खत्म किए जाने से 3 दिन पहले 2 अगस्त को अडवाइजरी जारी कर पर्यटकों से जल्द से जल्द घाटी से लौटने को कहा गया था। तब आतंकी खतरे को कारण बताया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here