सीरिया से अमेरिकी सेना के हटते ही तुर्की लगातार सीरिया में हवाई हमले कर रहा है।

सीरिया पर हुई बमबारी को लेकर भारत ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया दी है। दरअसल सीरिया से अमेरिकी सेना के हटते ही तुर्की लगातार सीरिया में हवाई हमले कर रहा है और कुर्दिश लड़ाकों को निशाना बना रहा है। इसी पर आज भारत ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत तुर्की के एक्शन पर चिंतित है और सीरिया के साथ शांति के साथ बात करने का आग्रह करता है।

विदेश मंत्रालय द्वारा अपने बयान में कहा कि भारत आग्रह करता है कि तुर्की सीरिया के अधिकारों का सम्मान करें।

 विदेश मंत्रालय

विदेश मंत्रालय द्वारा अपने बयान में कहा कि भारत आग्रह करता है कि तुर्की सीरिया के अधिकारों का सम्मान करें। अगर कोई विवाद है तो उसे बातचीत द्वारा सुलझाए। तुर्की के नॉर्थ-ईस्ट सीरिया में जारी बमबारी एक चिंता का मसला है। जो वहां बसे नागरिकों के लिए खतरनाक है। ये बमबारी उस क्षेत्र में चल रही आतंकवाद के खिलाफ पहल को कमजोर कर सकता है।तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन ने बताया कि इन हवाई हमलों का मक़सद सीमा पर ‘टेरर कॉरिडोर को बनने से रोकना’ है। इस हमले के जरिए तुर्की सुरक्षाबल एक ऐसा ‘सेफ़ ज़ोन’ बनाने की कोशिश कर रहे हैं, जहां कुर्द सैनिक न हों। तुर्की का कहना है कि इस ‘सेफ़ ज़ोन’ में सीरियाई शरणार्थियों के घर भी होंगे।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया से अमेरिकी सेना को वापस बुला लिया था।

 अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया से अमेरिकी सेना को वापस बुला लिया था।

बता दें कि कुछ समय पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सीरिया से अमेरिकी सेना को वापस बुला लिया था। सीरिया के कुछ क्षेत्रों से अमेरिकी सेना जैसे ही वापस आने लगी उसके तुरंत बाद सीरिया की सेना ने वहां मौजूद कुर्दिश के लड़ाकों पर हमला बोलना शुरू कर दिया। खुद तुर्की के राष्ट्रपति तैयप एद्रोगन ने ट्विटर पर इन हमलों की घोषणा की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here