आगरा निवासी धरम सिंह ने 12 अगस्‍त को एक बाइक खरीदी थी। उनका 16 साल का बेटा कभी-कभी बाइक चलाया करता था, लेकिन धरम सिंह ने चालान के डर से अपने बेटे से बाइक की चाबी छीन ली।

नए ट्रैफिक नियम लागू होने के बाद बढ़ी हुई चालान दर की चर्चाओं ने अभी जोरो-सोरो से तूल पकड़ा हुआ है। नए मोटर वीइकल ऐक्‍ट आने के बाद भारी-भरकम चालान का इतना खौफ है कि लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया हैं। इस डर का जीता-जागता नमूना आगरा में दिखा, जहां एक दंपती ने अपने नाबालिग बेटे को कई घंटों तक कमरे में कैद कर के रखा। दरअसल पिता ने नई बाइक खरीदी थी और बेटे की जिद थी कि वह उसे चलाएगा। बेटे की इसी जिद को देखते हुए पहले पिता ने बाइक को उसे देने से मना किया, पर जब बेटे की जिद बढ़ती गई तो डरे माता-पिता ने उसे कमरे में बंद कर दिया। इसके बाद लड़के ने पुलिस को फोन किया। जब पुलिस घर पहुंची तब जाकर लड़के को ‘आजाद’ कराया।

आपको बता दें कि आगरा निवासी धरम सिंह ने 12 अगस्‍त को एक बाइक खरीदी थी। उनका 16 साल का बेटा कभी-कभी बाइक चलाया करता था, लेकिन जैसे ही नए नियमों के तहत भारी जुर्माने की खबर आम हुई, धरम सिंह ने चालान के डर से अपने बेटे से बाइक की चाबी छीन ली। वहीं पिता धरम सिंह का कहना है कि नए मोटर वीइकल ऐक्‍ट के मुताबिक, अगर नाबालिग गाड़ी चलाता पकड़ा जाता है तो 25,000 रुपये के जुर्माने का प्रावधान है। यही वजह है कि हमें बेटे से बाइक की चाबी लेनी पड़ी। पिता ने ये भी बताया की वह बाइक चलाने की जिद करने लगा। जब कोई उपाय काम नहीं आया तो उसे एक कमरे में बंद करना पड़ा।

रवीश कुमार ने दिया मोदी सरकार के ट्रैफिक जुर्माने पर बड़ा बयान…

Image result for indian traffic police

सूत्रों का कहना है कि लड़के ने पुलिस को फोन करके खुद को बचाने की गुहार लगाई और ये कहा , ‘मेरे पैरंट्स ने बाइक की चाबी छीन ली थी और मुझे उसे चलाने नहीं दे रहे थे। अंत में मुझे अपने माता-पिता की कैद से रिहा कराने के लिए पुलिस को फोन करना पड़ा’। वहीं इस पूरे मामले में एतमादुद्दौला के एसएचओ उदयवीर सिंह का कहना हैं की हमने परिवार को चेतावनी देकर छोड़ दिया और लड़के को भी उसके माता-पिता की बात मानने को कहां।

नज़र हटी जेब कटी! चार दिनों में ट्रैफिक पुलिस ने जमा की इतनी रकम!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here