प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान हरियाणा के रोहतक में कुर्सियां बिल्कुल खाली पड़ी हुई थी। सरकार के 100 दिन पूरे होने के बाद इस रैली को बड़े पैमाने पर देखा जा रहा था।

लोकप्रियता के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत ही नहीं वरन् दुनियां के सबसे बड़े नेताओं में आते हैं। उनकी लोकप्रियता विदेशों में भी दूर-दूर तक फैली हुई है। उनको सुनने के लिए अपना काम छोड़कर लोग इकट्ठा होते हैं। भारतीय रैलियों में ही नहीं जब नरेंद्र मोदी विदेश जाते हैं, तो वहां भी भारतीय समुदाय और कुछ दूसरे देश के समुदाय के लोग इकट्ठा होकर उनसे मिलने आते हैं।

ग्रेटर नोएडा दौरा रद्द कर रक्षा मंत्री से मिलने पहुंचे सीएम योगी, जानिए क्या थी वजह

हरियाणा में पीएम रैली को झेलना पड़ा बड़ा अपमान, खाली पड़ी रही कुर्सियां, लेकिन....

लगातार दूसरी बार लोकसभा चुनाव जीतने के बाद नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता में और भी ज्यादा इजाफ़ा हुआ है। जानकारी के लिए बता दें कि सबसे पहले नरेंद्र मोदी सरकार ने 2014 में लोकसभा चुनाव पूर्ण बहुमत से जीता। उसके बाद नरेंद्र मोदी सरकार ने 2019 का लोकसभा चुनाव पूर्ण बहुमत से जीतकर इतिहास रच दिया। बीजेपी ने देश में ही नहीं बल्कि कई राज्यों में भी अपनी सरकार बनाई, लेकिन हरियाणा में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता को छोड़कर कुछ और ही देखने को मिला।

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को हरियाणा के रोहतक में विजय संकल्प रैली को संबोधित कर रहे थे। जहां उन्हें बड़ा अपमान का सामना करना पड़ा। यहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2000 करोड़ों रुपए की लागत वाली विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन भी किया, लेकिन रैली में बिल्कुल भी भीड़ नहीं देखी गई। जिसके बाद विपक्षी पार्टी के कुछ नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ा रहे हैं।

मोदी सरकार की कार्यशैली से परेशान होकर एक और आईएएस ने दिया इस्तीफ़ा…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान हरियाणा के रोहतक में कुर्सियां बिल्कुल खाली पड़ी हुई थी। सरकार के 100 दिन पूरे होने के बाद इस रैली को बड़े पैमाने पर देखा जा रहा था। बीजेपी कार्यकर्ताओं और नेताओं ने इस रैली को मेगा रैली बनाने की पूरी कोशिश की लेकिन वह नाकाम रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here