चांद के बहुत नजदीक आने के बाद विक्रम लेंडर का संपर्क पृथ्वी से टूट गया है।

चंद्रयान 2 पर भरत की ही नहीं पूरी दुनिया की नजर टिकी हुई हैं। इस मिशन के बाद भारत जहां इतिहास रचने वाला था वहीं इस मिशन को लेकर इसके लिए बुरी खबर सामने आ गई है। दरअसल इसकी लैंडिंग को लेकर अभी कुछ साफ नहीं हुआ है चांद के बहुत नजदीक आने के बाद विक्रम लेंडर का संपर्क पृथ्वी से टूट गया है। विक्रम लेंडर के संपर्क से हटने के बाद इसरो के वैज्ञानिकों के चेहरे उतर गए हैं। यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैज्ञानिकों का हौसला बांधते हुए कहा है। कि यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है। पूरे देश को आप सभी लोगों की मेहनत पर पूरा गर्व है मेरी ओर से आप सब को बधाई आप लोगों ने विज्ञान और मानव जाति की काफी सेवा की है। आगे भी प्रयास जारी रहेगा मैं पूरी तरह आपके साथ हूं ऑल द बेस्ट!

चंद्रयान 2 के चन्द्रमा पर उतरने से पहले ही अमेरिका ने कही थी बड़ी बात की भारत…

जानकारी के लिए बता दें कि चंद्रयान 2 का मिशन काफी अच्छा चल रहा था लेकिन अचानक जी विक्रम से पृथ्वी का कंट्रोल पूरी तरह खत्म हो गया मिली जानकारी के मुताबिक लेंडर विक्रम की रात 1:55 पर लैंडिंग होनी थी। फिर इस लैंडिंग का समय बदलकर 1:55 दिया गया इसके बाद पीएम मोदी के पास इसरो चेयरमैन डॉ के. सिवन आए और उनसे कुछ कहा? वैज्ञानिकों ने सिवन को ढांढस बंधाते हुए उनकी पीठ थपथपाई।

Image result for chandrayaan 2 updatesइस घटना के बाद सिवन ने बताया कि लैंडर विक्रम की लैंडिंग प्रक्रिया एकदम ठीक थी। जब यान चांद के दक्षिणी ध्रुव की सतह से 2.1 किमी दूर था, तब उसका पृथ्वी से संपर्क टूट गया उसके कुछ समय बाद ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक भाषण देकर सभी वैज्ञानिकों का हौसला बांधा।

चंद्रयान 2 को लेकर ममता बनर्जी ने कहा अर्थव्यवस्था से ध्यान हटाने के लिए!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here