सचिन ने ट्विट करते हुए लिखा कि शिक्षक न केवल शिक्षा प्रदान करते हैं, ब्लकि जीवन का मूल्य भी सिखाते हैं।

आज अध्यापक दिवस है अध्यापक का महत्व हर क्षेत्र में होता है। इसी तरह से खेल में भी एक खिलाड़ी तभी सफलता की ऊंचाइयां छूं सकता है जब उसके ऊपर एक गुरु का हाथ हो। बात चाहे क्रिकेट की हो या फिर खेल के किसी अन्य क्षेत्र की हर क्षेत्र में गुरु का स्थान सबसे अहम होता है। यही वजह है कि एक बेहतर गुरु की वजह से हमें क्रिकेट में सचिन तेंदुलकर जैसा खिलाड़ी मिल पाया है।

Teacher’s Day Special : जानिए डॉ. राधाकृष्णन के सम्मान में ही क्यों मनाया जाता है शिक्षा दिवस…

Teacher's Day Special:  गुरु को याद करके भावुक हुए क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर

गुरु के सम्मान के लिए ही इस दिन को बहुत ही उत्साह से मनाया जाता है। अध्यापक दिवस के इस मौके पर क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ने अपने बचपन के कोच रमाकांत अचरेकर याद किया। अपने कोच को याद करते हुए सचिन तेंदुलकर भावुक हो गए। सचिन ने ट्विट कर अपनी भावनाओं को व्यक्त किया। सचिन ने ट्विट करते हुए लिखा कि शिक्षक न केवल शिक्षा प्रदान करते हैं, ब्लकि जीवन का मूल्य भी सिखाते हैं।

आचरेकर सर ने मुझे जीवन और क्रिकेट में हमेशा सीधा खेलना सिखाया। मैं अपने जीवन में उनके अमूल्य योगदान के लिए हमेशा आभारी रहूंगा। उनकी सिखाई बातें आज भी मेरा मार्गदर्शन करती हैं।

Teachers Day 2019: गूगल डूडल ने एक शिक्षक के जीवन को कुछ इस तरह दर्शाया!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here