फिर बोली भारत की तूती, पाकिस्तान सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर पर उठाया अहम कदम

0
296
करतारपुर कॉरिडोर पर रविवार को भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाली अहम वार्ता से पहले, पाकिस्तान सरकार ने अहम कदम उठाया है

करतारपुर कॉरिडोर पर रविवार को भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाली अहम वार्ता से पहले, पाकिस्तान सरकार ने अहम कदम उठाया है

एक बार फिर भारत का दबदबा देखने को मिला. भारत की मजबूत स्तिथि के चलते पाकिस्तान को एक बार फिर भारत के आगे झुकना पड़ा. भारत की नाराजगी का यह असर हुआ कि गोपाल सिंह चावला को करतारपुर कॉरिडोर कमेटी से बहार कर दिया गया.

करतारपुर कॉरिडोर पर रविवार को भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाली अहम वार्ता से पहले भारत के दबाव में झुकते हुए पाकिस्तान सरकार ने अहम कदम उठाया है. पाकिस्तान ने आतंकी हाफिद सईद के खास गुर्गे और खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला को पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी से हटा दिया है. गोपाल सिंह चावला अब करतारपुर कॉरिडोर कमेटी का भी सदस्य नहीं है.

करतारपुर कॉरिडोर पर रविवार को भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाली अहम वार्ता से पहले, पाकिस्तान सरकार ने अहम कदम उठाया है

इससे पहले करतारपुर कॉरिडोर कमेटी में गोपाल सिंह चावला को शामिल करने पर भारत ने अपनी सख्त नाराजगी जताई थी. इसी मुद्दे पर भारत ने पिछली बार इस बैठक को रद्द कर दिया था. इसके बाद 14 जुलाई रविवार को अटारी-वाघा बॉर्डर पर शुरु होने वाली बैठक से पहले पाकिस्तान सरकार ने गोपाल सिंह चावला को इस कमेटी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है.

करतारपुर कॉरिडोर पर भारत-पाकिस्तान के बीच इस साल अप्रैल में भी वार्ता होने वाली थी. वार्ता से पहले पाकिस्तान ने करतापुर कॉरिडोर की निगरानी के लिए 10 सदस्यों की कमेटी का ऐलान किया जिसपर भारत ने बेहद नारजगी जताई. दरसल इस कमेटी में खालिस्तानी मूवमेंट को हवा देने वाले गोपाल सिंह चावला, मनिंदर सिंह, तारा सिंह, बिशन सिंह और कुलजीत सिंह जैसे लोगों तो जगह दी गई. जिसके बाद भारत ने इस मसले पर पाकिस्तान के डिप्टी हाई कमिश्नर को बुलाकर सफाई भी मांगी थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here