दिल्ली के महरौली में पत्थर दिल पिता ने की पत्नी समेत तीन बच्चों की हत्या, ये है पूरा मामला

0
212

दक्षिण पश्चिम दिल्ली के महरौली में शनिवार की सुबह तीन बच्चें समेत चार लोगों की हत्या से दहशत फैल गई है।

नई दिल्ली: दक्षिण पश्चिम दिल्ली के महरौली में शनिवार की सुबह तीन बच्चें समेत चार लोगों की हत्या से दहशत फैल गई है। मामला तब सामने आया जब पुलिस ने मीडिया को सूचित करते हुए कहा कि एक व्यक्ति ने महरौली में अपने परिवार के चार सदस्यों की हत्या कर दी है। डीेएसपी ने बताया कि आरोपी ने  हत्याओं को कबूल किया है।

बता दें कि जांच में पता चला है कि व्यक्ति ने दो महीने, पांच साल और छह साल की उम्र के बच्चों और पत्नी की हत्या को स्वीकार किया है। आरोपी की पहचान उपेंद्र शुक्ला के रूप में हुई है। मामले से परिचित अधिकारियों ने मीडिया कर्मियों को बताया कि आरोपी निजी ट्यूशन देता था और महरौली में अपने परिवार के साथ रहता था।

वहीं पुलिस ने सुबह ही उपेंद्र को गिरफ्तार कर लिया और वह हत्यार भी बरामद किया जिसको उसने अपनी पत्नी और तीन बच्चों का गला काटने के लिए इस्तेमाल किया था। हत्या का मकसद अभी भी साफ नहीं हो पाया है। मीडिया के मुताबिक शुक्ला मानसिक बीमारी और अवसाद से गुजर रहा था, हालांकि, अधिकारियों की जांच से इन दावों की पुष्टि होना बाकी है।

बीती रात 1 से 2 बजे के बीच हुई घटना को लेकर पुलिस का कहना है कि उन्हें घटना की जानकरी शुक्ला की मां ने दी थी। शुक्ला की मां उसके परिवार के साथ उसी घर में रहती है। शनिवार की सुबह शुक्ला की मां बच्चों को जगाने पहुंची तो दरवाजा बजाने पर अंदर से कोई जवाब नहीं आया। इसके बाद शुक्ला की मां ने स्थानीय पुलिस अधिकारियों को सूचित किया। पुलिस मामले की जांच कर रही है। बता दें कि ये घटना एक साल पहले हुई सामूहिक परिवार की आत्महत्या की याद दिलाती है, जिसमें राष्ट्रीय राजधानी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों ने आत्महत्या कर ली थी।

दिल्ली के बुरारी में 11 हत्याओं की घटना एक साल पहले एक जुलाई 2018 को हुई थी। स्थानीय और पुलिस अधिकारियों को एक ही परिवार के ग्यारह सदस्यों के शव बुरारी स्थित उनके आवास पर मिले थे। पीड़ितों में परिवार के 77 वर्षीय मैट्रिच, तीन महिलाएं, दो पुरुष और चार बच्चे शामिल थे। बाद में पता चला कि मौतें ‘सामूहिक आत्महत्या’ का पूर्व-ध्यानित मामला था। फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी के मनोविज्ञान प्रभाग के साथ अधिकारियों ने ‘बुरारी की मौत’ के बाद जो सुझाव दिया था कि यह ‘साझा मनोविकृति’ का मामला था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here