अमेजॉन की बढ़ी मुश्किलें इस हरकत पर दर्ज हुआ मुकदमा

0
386

नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन कंपनी अमेजॉन के खिलाफ यूपी के नोएडा सेक्टर-58 में मुकदमा दर्ज कराया गया है। अमेजॉन पर आरोप है कि वो अपने प्रोडेक्ट का साथ ऐसी तस्वीरों का इस्तेमाल करती है जिससे हिंदू लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचती है। प्रभारी निरीक्षक पंकज राय का कहना है कि ये मुकदमा खोड़ा निवासी विकास मिश्र की शिकायत पर दर्ज किया गया है।

विकास का कहना है कि अमेजॉन ऑनलाइन कारोबार करती है। ये कंपनी अपनी साइट पर ऐसे सामानों की तस्वीर डालती है कि इससे हिंदू लोग आहत होते हैं।

साथ ही उनका कहना है कि इससे देश में कभी भी धार्मिक तनाव पैदा हो सकता है। इसके बाद पुलिस ने अमेजॉन के स्थानीय वेंडर को बुलाया और जानकारी ली। इसके बाद मुकदमा दर्ज किया गया। बता दें कि विकास ने ये शिकायत इस लिए दर्ज कराई है क्योंकि अगर आप अमेजॉन.कॉम पर जाकर इंग्लिश में toilet cover indian god टाइप करेंगे, तो वहां आपको बहुत से ऐसे कवर दिखाई देंगे जिन पर हिंदु देवी देवताओं के चित्र बने हैं और उन्हें आप अपने बाथरूम में पैर रखने के लिए या फिर टायलेट सीट का कवर लगाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।

बता दें कि ये शिकायत विदेशी प्रोडेक्ट को लेकर की गई है क्योंकि भारत में न तो आप इसे आसानी से खरीद सकते हैं और न ही आसानी से इसकी डिलीवरी होगी। लेकिन विदेश में आप गणेश जी का चित्र बना टॉयलेट कवर आप वहां मात्र 10 डॉलर में खरीद सकते हैं। इन चित्रों की बनावट चीन में हो रही है और वहीं से इनको लाया जा रहा है। इसका साइज 8*11 का है। लोगों को इसके लिए अतिरिक्त तौर पर इंपोर्ट फीस और अन्य शुल्क भी अदा करना होगा।

इतना ही नहीं इसमें जितना बड़ा प्रोडेक्ट है उतनी ही ज्यादा उसकी कीमत और उतने ही बड़े भगवान की तस्वीर बनी है। बता दें कि अमेजॉन पर सबसे महंगा प्रोडेक्ट भगवान जगन्नाथ के चित्र वाला फ्लोर कारपेट है। जिसकी कीमत 220 डॉलर है। इसके साथ ही इसे इस्तेमाल करने के बारे में बताया गया है कि आप इसको किस-किस चीज में इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसा नहीं है कि इसका विरोध सिर्फ अभी किया जा रहा है। पहले से ही इन प्रोडेक्टों पर रोक लगाने की कोशिश की जा चुकी है। हालांकि विरोध होने के बाद कंपनी ने बाद में अपनी वेबसाइट से इन उत्पादों को हटा लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here